पुस्तकों को मातृरूप में देखना चाहिए - निबंध हिंदी में [ Pustakon Ko Matrirup Me Dekhna Chahiye ]

Ashok Nayak
0
SHOW CONTENTS (TOC)

प्रस्तावना

पुस्तकों को मातृरूप में देखने वाले और उनके प्रति मातृवत् व्यवहार करने वाले व्यक्ति सदैव माँ के स्नेहासिक्त् वरदहस्त की अनुभूति करते हैं । पुस्तकों का अध्ययन व्यक्तित्व को पूर्णता प्रदान करता है । धूर्त इस अध्ययन की भर्त्सना करते हैं , मूर्ख उसकी प्रशंसा मात्र करके सन्तुष्ट हो जाते हैं , लेकिन चतुर व्यक्ति पुस्तकों के अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का उपयोग अपने जीवन को सफल एवं सार्थक बनाने में करते हैं ,

पुस्तक और माता 

जन्म के उपरान्त बालक के मुखमण्डल पर मुस्कान का प्रथम दर्शन माता करती है । ज्ञान - प्राप्ति के उपरान्त प्राप्त होने वाली प्रथम प्रसन्नता पुस्तक प्रदान करती है । माता बालक को कुछ बनाने का स्वप्न देखती हैं । पुस्तकें अध्येता को कुछ बना देती हैं । माता बालक की प्रथम गुरु होती है । पुस्तकें आरम्भ से अन्त तक ज्ञान प्रदान करने वाले गुरु का कार्य करती हैं । माता प्रेम प्रदान करती है । पुस्तकें प्रेमपूर्वक ज्ञान प्रदान करती हैं । माता बालक से किसी अवस्था में विलग हो सकती है , हो ही जाती है , परन्तु पुस्तकें कभी भी अपने अध्येता से विलग नहीं होती हैं ; अपितु अध्येता ज्यों - ज्यों उनके साथ निकटता का अनुभव करता है , त्यों - त्यों पुस्तकें उसको अपने अंचल में समेट लेती हैं । 

एक यहूदी कहावत के अनुसार “ परमात्मा हर स्थान पर , हर समय जीव की सहायता नहीं कर सकता है , इसलिए उसने माता का निर्माण किया । " हमारा संशोधन है , माता हर समय बालक के साथ नहीं रह सकती है , इसलिए परमात्मा ने पुस्तकों का निर्माण किया । पुस्तकों को मातृरूप में देखने वाले और उनके प्रति मातृवत् व्यवहार करने वाले व्यक्ति सदैव माँ के स्नेहसिक्त वरदहस्त की अनुभूति करते हैं । बेकन नाम के अंग्रेजी के प्रसिद्ध गद्यकार ने लिखा है कि " पुस्तकों का अध्ययन व्यक्तित्व को पूर्णता प्रदान करता है । जो धूर्त हैं , वे अध्ययन की भर्त्सना करते हैं , मूर्ख उसकी प्रशंसा भर करके सन्तुष्ट हो जाते हैं और जो चतुर होते हैं वे पुस्तकों के अध्ययन द्वारा प्राप्त ज्ञान का लाभ जीवन - व्यवहार में उठाते हैं ।

पुस्तकों का ऋण

माता के ऋण से बड़ा क्या कोई उऋण हो सकता है ? कदापि नहीं । भारत के ऋषियों ने पितृ - ऋण से उऋण होने का उपदेश दिया है , मातृ - ऋण से उऋण होने की कल्पना भी वे नहीं कर सके थे । पुस्तकों द्वारा प्राप्त ज्ञान से भी हमारे उऋण होने का प्रश्न उत्पन्न नहीं हो सकता है । पुस्तकें न हों , तो हम अपने मन की बात भी नहीं कह सकेंगे । कवीन्द्र रवीन्द्र नाथ ने पुस्तकों को लक्ष्य करके एक स्थान पर लिखा है कि " पुस्तकें प्रकाश - गृह हैं , जो समय के विशाल समुद्र में खड़ी होकर हमारा मार्गदर्शन करती हैं । "

 पुस्तकों की अवज्ञा करने वाले व्यक्ति

जीवन में मार्गदर्शन करने वाली पुस्तकों की अवज्ञा करने वाले व्यक्ति सदैव अंधकार में रहते हैं , जीवन भर भटकते रहते हैं और अन्ततः प्रकाश स्तम्भ के दिशा - निर्देश की उपेक्षा करके चलने वाले जल - पोत की भाँति दुर्घटनाग्रस्त होकर नाश को प्राप्त होते हैं । इसी तथ्य को महात्मा गांधी ने आत्मसात् करते हुए कहा है कि " अच्छी पुस्तकों के पास रहने से हमें भले मित्रों के साथ न रहने की कमी नहीं खटकती । जितना ही मैं पुस्तकों का अध्ययन करता गया , उतनी ही अधिक उनकी विशेषताएं मुझको विदित होती गई ।

मन की स्थायी सम्पत्ति

 " माता मुँह - हाथ आदि धोकर हमारे शरीर को स्वच्छ करके हमें समाज में जाने योग्य बनाती है , पुस्तकें मन को निर्मल बनाने वाले साबुन का काम करती हैं और हमें समाज में सर ऊँचा करके जाने की क्षमता प्रदान करती हैं । पुस्तकों की सार संवार करके हम माता द्वारा की जाने वाली सार - संवार की अनुभूति को अपने मन की स्थायी सम्पत्ति बना सकते हैं । स्वामी विवेकानन्द ने नरक में भी अच्छी पुस्तकों के स्वागत करने की इच्छा प्रकट की थी । हमारे अनेक स्वतंत्रता सेनानियों ने पुस्तकों के सहारे ही अपने जेल - जीवन को सार्थक बनाया था । न मालूम कितने युद्ध - बन्दियों ने श्रीमद्भगवद्गीता , बाइबिल जैसी पुस्तकों का सहारा लेकर अपने यन्त्रणापूर्ण जीवन को हँसकर काट दिया था ! 

पुस्तकों के महत्व 

हमारे उदीयमान युवक - युवतियों का कर्तव्य है कि वे जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए पुस्तकों के महत्व को समझें और उनके प्रति आदर - भाव का विकास करें । यदि वे पुस्तकों से प्रेम नहीं करेंगे , उन्हें पढ़ेंगे नहीं , पढ़ने के लिए पुस्तकें खरीदेंगे नहीं और खरीदकर उन्हें सावधानी से रखेंगे नहीं , तो सतत् ज्ञान - प्राप्ति की प्रक्रिया से वंचित हो जाएंगे । गिबन नाम के विद्वान ने कहा है कि " पुस्तकें वे विश्वस्त दर्पण हैं , जो सन्तों , शूरों एवं मनीषियों के मस्तिष्क का परावर्तन हमारे मस्तिष्क पर करती हैं । "

पपुस्तकों से ज्ञान

पुरातन और नवीन , भारतीय और अभारतीय , समस्त मनीषी निर्विवाद रूप से स्वीकार करते हैं कि कुछ पुस्तकें मात्र चखने योग्य अर्थात् सरसरी निगाह डालने योग्य होती हैं , कुछ पुस्तकें पचाए जाने योग्य होती हैं तथा कुछ पुस्तकों में निहित ज्ञान इतना श्रेष्ठ होता है कि जुगाली करके उसे आत्मसात् कर लिया जाना चाहिए । इसी के साथ यह तथ्य भी हमारे सामने आता है कि हम पुस्तकों के चयन का अभ्यास करें तथा तत्सम्बन्धी योग्यता का विकास करें । कालटन ( Calton ) नाम के विद्वान द्वारा प्रदत्त परामर्श के अनुसार “ मित्रों की भाँति हमको पूरी सावधानी के साथ श्रेष्ठ पुस्तकों का चयन करना चाहिए , भले ही अच्छे मित्रों की भाँति उनकी संख्या कम हो । मित्रों की तरह हम सहायतार्थ बार - बार पुस्तकों के पास जाएं , क्योंकि सच्चे दोस्तों की भाँति , वे हमको कभी भी निराश नहीं करेंगी , वे सदैव हमारा मार्गदर्शन करेंगी , हमको सदैव उपयोगी निर्देश देंगी । श्रेष्ठ पुस्तकों की उपलब्धि श्रेष्ठ मित्रों की उपलब्धि से कम महत्वपूर्ण नहीं होती है । "

पुस्तकों का शासन स्वीकार 

 सभ्य राष्ट्रों पर पुस्तकों का शासन होता है । सभ्य बनने के लिए पुस्तकों का शासन स्वीकार करना अनिवार्य है । इसी से कहा जाता है कि A man is known by the books he reads- व्यक्ति की पहचान उन पुस्तकों द्वारा की जाती है जिन्हें वह पढ़ता है । श्रेष्ठ बनने के लिए , सफलता प्राप्त करने के लिए आप श्रेष्ठ पुस्तकें संकलित कीजिए । आपका पुस्तकालय आपकी अस्मिता को प्रमाणित करेगा और ऋषिऋण से उऋण होने में आपकी सहायता करेगा ।

पुस्तकालय

 समस्त आवश्यक पुस्तकों को बिरले जन ही अपने संकलन में रखने में समर्थ होते हैं । इसीलिए पुस्तकों के प्रेमी अध्येताओं के लिए पुस्तकालय नामक संस्था की स्थापना की गई है । आप और हम सब पुस्तकालय जाकर आवश्यक पुस्तकों के अध्ययन का अभ्यास करें । पुस्तकालय वास्तव में सरस्वती के मन्दिर , ज्ञान के भण्डार , साहित्य के यश - स्तम्भ , विद्या के कल्पद्रुम , आनन्द के उद्यान , शान्ति के आधार तथा जिज्ञासुओं के लिए पारदर्शी आचार्य होते हैं । 

पुस्तकालय की प्रत्येक ईंट पर यह रहस्य अंकित रहता है - अन्दर आकर ज्ञान प्राप्त कीजिए , बाहर जाकर जीवन को सफल बनाइए ।

 महात्मा गांधी कहा करते थे- " श्रीमद् भगवद्गीता मेरी माता है । उद्विग्न होने पर मैं उसकी गोद में चला जाता हूँ । आप भी श्रेष्ठ पुस्तकों को माता स्वरूप समझिए और असफलता की दुश्चिन्ताओं से मुक्ति पाइए । "

तो दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी यह पोस्ट ! इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है।

इसके अलावे अगर बिच में कोई समस्या आती है तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें। अगर आप चाहें तो अपना सवाल हमारे ईमेल Personal Contact Form को भर पर भी भेज सकते हैं। हमें आपकी सहायता करके ख़ुशी होगी ।

इससे सम्बंधित और ढेर सारे पोस्ट हम आगे लिखते रहेगें । इसलिए हमारे ब्लॉग “variousinfo.co.in” को अपने मोबाइल या कंप्यूटर में Bookmark (Ctrl + D) करना न भूलें तथा सभी पोस्ट अपने Email में पाने के लिए हमें अभी Subscribe करें।

अगर ये पोस्ट आपको अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। आप इसे whatsapp , Facebook या Twitter जैसे सोशल नेट्वर्किंग साइट्स पर शेयर करके इसे और लोगों तक पहुचाने में हमारी मदद करें। धन्यवाद !

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

If you liked the information of this article, then please share your experience by commenting. This is very helpful for us and other readers. Thank you

If you liked the information of this article, then please share your experience by commenting. This is very helpful for us and other readers. Thank you

Post a Comment (0)
Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !