पुस्तकों को मातृरूप में देखना चाहिए - निबंध हिंदी में [ Pustakon Ko Matrirup Me Dekhna Chahiye ]

SHOW CONTENTS (TOC)

प्रस्तावना

पुस्तकों को मातृरूप में देखने वाले और उनके प्रति मातृवत् व्यवहार करने वाले व्यक्ति सदैव माँ के स्नेहासिक्त् वरदहस्त की अनुभूति करते हैं । पुस्तकों का अध्ययन व्यक्तित्व को पूर्णता प्रदान करता है । धूर्त इस अध्ययन की भर्त्सना करते हैं , मूर्ख उसकी प्रशंसा मात्र करके सन्तुष्ट हो जाते हैं , लेकिन चतुर व्यक्ति पुस्तकों के अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का उपयोग अपने जीवन को सफल एवं सार्थक बनाने में करते हैं ,

पुस्तक और माता 

जन्म के उपरान्त बालक के मुखमण्डल पर मुस्कान का प्रथम दर्शन माता करती है । ज्ञान - प्राप्ति के उपरान्त प्राप्त होने वाली प्रथम प्रसन्नता पुस्तक प्रदान करती है । माता बालक को कुछ बनाने का स्वप्न देखती हैं । पुस्तकें अध्येता को कुछ बना देती हैं । माता बालक की प्रथम गुरु होती है । पुस्तकें आरम्भ से अन्त तक ज्ञान प्रदान करने वाले गुरु का कार्य करती हैं । माता प्रेम प्रदान करती है । पुस्तकें प्रेमपूर्वक ज्ञान प्रदान करती हैं । माता बालक से किसी अवस्था में विलग हो सकती है , हो ही जाती है , परन्तु पुस्तकें कभी भी अपने अध्येता से विलग नहीं होती हैं ; अपितु अध्येता ज्यों - ज्यों उनके साथ निकटता का अनुभव करता है , त्यों - त्यों पुस्तकें उसको अपने अंचल में समेट लेती हैं । 

एक यहूदी कहावत के अनुसार “ परमात्मा हर स्थान पर , हर समय जीव की सहायता नहीं कर सकता है , इसलिए उसने माता का निर्माण किया । " हमारा संशोधन है , माता हर समय बालक के साथ नहीं रह सकती है , इसलिए परमात्मा ने पुस्तकों का निर्माण किया । पुस्तकों को मातृरूप में देखने वाले और उनके प्रति मातृवत् व्यवहार करने वाले व्यक्ति सदैव माँ के स्नेहसिक्त वरदहस्त की अनुभूति करते हैं । बेकन नाम के अंग्रेजी के प्रसिद्ध गद्यकार ने लिखा है कि " पुस्तकों का अध्ययन व्यक्तित्व को पूर्णता प्रदान करता है । जो धूर्त हैं , वे अध्ययन की भर्त्सना करते हैं , मूर्ख उसकी प्रशंसा भर करके सन्तुष्ट हो जाते हैं और जो चतुर होते हैं वे पुस्तकों के अध्ययन द्वारा प्राप्त ज्ञान का लाभ जीवन - व्यवहार में उठाते हैं ।

पुस्तकों का ऋण

माता के ऋण से बड़ा क्या कोई उऋण हो सकता है ? कदापि नहीं । भारत के ऋषियों ने पितृ - ऋण से उऋण होने का उपदेश दिया है , मातृ - ऋण से उऋण होने की कल्पना भी वे नहीं कर सके थे । पुस्तकों द्वारा प्राप्त ज्ञान से भी हमारे उऋण होने का प्रश्न उत्पन्न नहीं हो सकता है । पुस्तकें न हों , तो हम अपने मन की बात भी नहीं कह सकेंगे । कवीन्द्र रवीन्द्र नाथ ने पुस्तकों को लक्ष्य करके एक स्थान पर लिखा है कि " पुस्तकें प्रकाश - गृह हैं , जो समय के विशाल समुद्र में खड़ी होकर हमारा मार्गदर्शन करती हैं । "

 पुस्तकों की अवज्ञा करने वाले व्यक्ति

जीवन में मार्गदर्शन करने वाली पुस्तकों की अवज्ञा करने वाले व्यक्ति सदैव अंधकार में रहते हैं , जीवन भर भटकते रहते हैं और अन्ततः प्रकाश स्तम्भ के दिशा - निर्देश की उपेक्षा करके चलने वाले जल - पोत की भाँति दुर्घटनाग्रस्त होकर नाश को प्राप्त होते हैं । इसी तथ्य को महात्मा गांधी ने आत्मसात् करते हुए कहा है कि " अच्छी पुस्तकों के पास रहने से हमें भले मित्रों के साथ न रहने की कमी नहीं खटकती । जितना ही मैं पुस्तकों का अध्ययन करता गया , उतनी ही अधिक उनकी विशेषताएं मुझको विदित होती गई ।

मन की स्थायी सम्पत्ति

 " माता मुँह - हाथ आदि धोकर हमारे शरीर को स्वच्छ करके हमें समाज में जाने योग्य बनाती है , पुस्तकें मन को निर्मल बनाने वाले साबुन का काम करती हैं और हमें समाज में सर ऊँचा करके जाने की क्षमता प्रदान करती हैं । पुस्तकों की सार संवार करके हम माता द्वारा की जाने वाली सार - संवार की अनुभूति को अपने मन की स्थायी सम्पत्ति बना सकते हैं । स्वामी विवेकानन्द ने नरक में भी अच्छी पुस्तकों के स्वागत करने की इच्छा प्रकट की थी । हमारे अनेक स्वतंत्रता सेनानियों ने पुस्तकों के सहारे ही अपने जेल - जीवन को सार्थक बनाया था । न मालूम कितने युद्ध - बन्दियों ने श्रीमद्भगवद्गीता , बाइबिल जैसी पुस्तकों का सहारा लेकर अपने यन्त्रणापूर्ण जीवन को हँसकर काट दिया था ! 

पुस्तकों के महत्व 

हमारे उदीयमान युवक - युवतियों का कर्तव्य है कि वे जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए पुस्तकों के महत्व को समझें और उनके प्रति आदर - भाव का विकास करें । यदि वे पुस्तकों से प्रेम नहीं करेंगे , उन्हें पढ़ेंगे नहीं , पढ़ने के लिए पुस्तकें खरीदेंगे नहीं और खरीदकर उन्हें सावधानी से रखेंगे नहीं , तो सतत् ज्ञान - प्राप्ति की प्रक्रिया से वंचित हो जाएंगे । गिबन नाम के विद्वान ने कहा है कि " पुस्तकें वे विश्वस्त दर्पण हैं , जो सन्तों , शूरों एवं मनीषियों के मस्तिष्क का परावर्तन हमारे मस्तिष्क पर करती हैं । "

पपुस्तकों से ज्ञान

पुरातन और नवीन , भारतीय और अभारतीय , समस्त मनीषी निर्विवाद रूप से स्वीकार करते हैं कि कुछ पुस्तकें मात्र चखने योग्य अर्थात् सरसरी निगाह डालने योग्य होती हैं , कुछ पुस्तकें पचाए जाने योग्य होती हैं तथा कुछ पुस्तकों में निहित ज्ञान इतना श्रेष्ठ होता है कि जुगाली करके उसे आत्मसात् कर लिया जाना चाहिए । इसी के साथ यह तथ्य भी हमारे सामने आता है कि हम पुस्तकों के चयन का अभ्यास करें तथा तत्सम्बन्धी योग्यता का विकास करें । कालटन ( Calton ) नाम के विद्वान द्वारा प्रदत्त परामर्श के अनुसार “ मित्रों की भाँति हमको पूरी सावधानी के साथ श्रेष्ठ पुस्तकों का चयन करना चाहिए , भले ही अच्छे मित्रों की भाँति उनकी संख्या कम हो । मित्रों की तरह हम सहायतार्थ बार - बार पुस्तकों के पास जाएं , क्योंकि सच्चे दोस्तों की भाँति , वे हमको कभी भी निराश नहीं करेंगी , वे सदैव हमारा मार्गदर्शन करेंगी , हमको सदैव उपयोगी निर्देश देंगी । श्रेष्ठ पुस्तकों की उपलब्धि श्रेष्ठ मित्रों की उपलब्धि से कम महत्वपूर्ण नहीं होती है । "

पुस्तकों का शासन स्वीकार 

 सभ्य राष्ट्रों पर पुस्तकों का शासन होता है । सभ्य बनने के लिए पुस्तकों का शासन स्वीकार करना अनिवार्य है । इसी से कहा जाता है कि A man is known by the books he reads- व्यक्ति की पहचान उन पुस्तकों द्वारा की जाती है जिन्हें वह पढ़ता है । श्रेष्ठ बनने के लिए , सफलता प्राप्त करने के लिए आप श्रेष्ठ पुस्तकें संकलित कीजिए । आपका पुस्तकालय आपकी अस्मिता को प्रमाणित करेगा और ऋषिऋण से उऋण होने में आपकी सहायता करेगा ।

पुस्तकालय

 समस्त आवश्यक पुस्तकों को बिरले जन ही अपने संकलन में रखने में समर्थ होते हैं । इसीलिए पुस्तकों के प्रेमी अध्येताओं के लिए पुस्तकालय नामक संस्था की स्थापना की गई है । आप और हम सब पुस्तकालय जाकर आवश्यक पुस्तकों के अध्ययन का अभ्यास करें । पुस्तकालय वास्तव में सरस्वती के मन्दिर , ज्ञान के भण्डार , साहित्य के यश - स्तम्भ , विद्या के कल्पद्रुम , आनन्द के उद्यान , शान्ति के आधार तथा जिज्ञासुओं के लिए पारदर्शी आचार्य होते हैं । 

पुस्तकालय की प्रत्येक ईंट पर यह रहस्य अंकित रहता है - अन्दर आकर ज्ञान प्राप्त कीजिए , बाहर जाकर जीवन को सफल बनाइए ।

 महात्मा गांधी कहा करते थे- " श्रीमद् भगवद्गीता मेरी माता है । उद्विग्न होने पर मैं उसकी गोद में चला जाता हूँ । आप भी श्रेष्ठ पुस्तकों को माता स्वरूप समझिए और असफलता की दुश्चिन्ताओं से मुक्ति पाइए । "

तो दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी यह पोस्ट ! इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है।

इसके अलावे अगर बिच में कोई समस्या आती है तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें। अगर आप चाहें तो अपना सवाल हमारे ईमेल Personal Contact Form को भर पर भी भेज सकते हैं। हमें आपकी सहायता करके ख़ुशी होगी ।

इससे सम्बंधित और ढेर सारे पोस्ट हम आगे लिखते रहेगें । इसलिए हमारे ब्लॉग “variousinfo.co.in” को अपने मोबाइल या कंप्यूटर में Bookmark (Ctrl + D) करना न भूलें तथा सभी पोस्ट अपने Email में पाने के लिए हमें अभी Subscribe करें।

अगर ये पोस्ट आपको अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। आप इसे whatsapp , Facebook या Twitter जैसे सोशल नेट्वर्किंग साइट्स पर शेयर करके इसे और लोगों तक पहुचाने में हमारी मदद करें। धन्यवाद !

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad