पराक्रम दिवस कब मनाया जाता है : नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती 23 जनवरी ( Parakram Divas)

पराक्रम दिवस कब मनाया जाता है: 23 जनवरी 2021 को भारत सरकार ने 'पराक्रम दिवस' के रूप में मनाने का फैसला लिया है। यह एक ऐतिहासिक फैसला है। आज के बाद हर साल 23 जनवरी को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जाएगा। आइये नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के बारे में कुछ रोचक बातें जानते हैं।

पराक्रम दिवस कब मनाया जाता है : नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती 23 जनवरी ( Parakram Divas)

Table of contents(toc)

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस का परिचय -

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नाम से कौन परिचित नहीं है।  उनकी न केवल देश में बल्कि दुनिया के सभी देशों में एक निडर सैन्य और देशभक्त व्यक्ति और नेता के रूप में पहचान है। नेताजी का जन्म 23 जनवरी 1897 को हुआ था। हालांकि, उनकी मौत से पर्दा आज तक नहीं उठ सका। उनकी मौत के बारे में कई तरह की बातें सामने आई हैं।  

नेताजी भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में शामिल होने वाले अग्रणी नेताओं में से एक थे। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ और भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ने के उद्देश्य से आजाद हिंद फौज का गठन किया।

उस समय उन्होंने नारा दिया था, तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा। इसका सीधा सा मतलब था कि देश की आजादी की जरूरत ऐसे लोगों को थी, जो इस पर निर्भर थे, तभी आजादी के सपने को देखा जा सकता है। उनके नारे के बाद हजारों लोग उनके साथ जुड़ गए थे।


नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को लेकर इतिहासकारों के मत

उनके बारे में इतिहासकारों की भी अलग-अलग राय है। कुछ का मानना ​​है कि जब उन्होंने भारत की स्वतंत्रता के उद्देश्य से जापान और जर्मनी से मदद लेने की कोशिश की थी, तब ब्रिटिश सरकार ने उनके पीछे गुप्त एजेंट रखे थे। उनका मकसद किसी भी तरह से ब्रिटिश सरकार को खत्म करना था। नेता जी ने 5 जुलाई 1943 को सिंगापुर में टाउन हॉल के सामने 'दिल्ली चलो' का नारा दिया। उनके द्वारा गठित आजाद हिंद फौज को जापानी सेना सहित कई जगहों पर ब्रिटिश सेना को मजबूर कर दिया, जिसके बाद उन्हें वहां से पीछे हटना।

21 अक्टूबर 1943 को, सुभाष बाबू ने स्वतंत्र भारत की अस्थायी सरकार बनाई। जर्मनी, जापान, फिलीपींस, कोरिया, चीन, इटली, मंचुको और आयरलैंड सहित 11 देशों द्वारा इस सरकार को मान्यता दी गई थी। यही नहीं, जापान ने अंडमान और निकोबार द्वीपों को उनके द्वारा बनाई गई देश की अस्थायी सरकार को दे दिया। उसने उनका नामकरण भी किया। 

1944 में, उनकी सेना ने अपने साथियों के साथ मिलकर अंग्रेजों पर एक भयंकर हमला किया। इसके बाद, कुछ क्षेत्रों को भी उनके शासन से मुक्त कर दिया गया। कोहिमा की लड़ाई 4 अप्रैल 1944 से 22 जून 1944 तक चली थी। यह एक भयंकर युद्ध था जिसमें जापानी सेना को पीछे हटना पड़ा था। 

6 जुलाई 1944 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने महात्मा गांधी के नाम पर रंगून रेडियो स्टेशन से एक प्रसारण जारी किया। इसमें उन्होंने अपनी जीत के लिए महात्मा गांधी से आशीर्वाद मांगा।  हालाँकि, महात्मा गांधी और बोस के बीच संबंध की रिपोर्ट भी प्रसिद्ध है। महात्मा गांधी उनके द्वारा उठाए गए कदमों से संतुष्ट नहीं थे।


जहां तक ​​नेताजी की मौत का सवाल है, इसे लेकर अभी भी विवाद है।  जापान में 18 अगस्त को उनका शहादत दिवस मनाया जाता है। उसी समय, उनके परिवार का मानना ​​है कि 1945 में उनकी मृत्यु नहीं हुई थी। उनके अनुसार, उन्हें हवाई दुर्घटना की घटना के बाद घर में नजरबंद रखा गया था। 

आपको बता दें कि अब तक उनकी मौत से जुड़े कुछ दस्तावेजों को ही सार्वजनिक किया गया है। 23 जनवरी 2021 को, भारत सरकार ने 'पराक्रम दिवस' मनाने का निर्णय लिया है।


तो दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी यह पोस्ट ! इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है। इसके अलावे अगर बिच में कोई समस्या आती है तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें। अगर आप चाहें तो अपना सवाल हमारे ईमेल Personal Contact Form को भर पर भी भेज सकते हैं। हमें आपकी सहायता करके ख़ुशी होगी । इससे सम्बंधित और ढेर सारे पोस्ट हम आगे लिखते रहेगें । इसलिए हमारे ब्लॉग “Hindi Variousinfo” को अपने मोबाइल या कंप्यूटर में Bookmark (Ctrl + D) करना न भूलें तथा सभी पोस्ट अपने Email में पाने के लिए हमें अभी Subscribe करें। अगर ये पोस्ट आपको अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। आप इसे whatsapp , Facebook या Twitter जैसे सोशल नेट्वर्किंग साइट्स पर शेयर करके इसे और लोगों तक पहुचाने में हमारी मदद करें। धन्यवाद !






Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad