AUKUS समझौता और क्षेत्र पर इसके व्यापक प्रभाव

AUKUS समझौता और क्षेत्र पर इसके व्यापक प्रभाव: ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और अमेरिका ने हाल ही में एक त्रिपक्षीय सुरक्षा समझौते की घोषणा की है, जिसे 'ऑकस' (AUKUS) के रूप में संक्षिप्त किया गया है। हालांकि, फ्रांस ने इस परमाणु गठबंधन का विरोध किया है।

इस गठबंधन की घोषणा करते हुए, चीन का नाम लिए बिना, अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि अमेरिका और ब्रिटेन "तेजी से उभरते खतरों से निपटने" के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता, साइबर-युद्ध, क्वांटम कंप्यूटिंग और परमाणु पनडुब्बी निर्माण जैसे क्षेत्रों में ऑस्ट्रेलिया के साथ सहयोग करेंगे। खुफिया और उन्नत तकनीक साझा करेंगे।

Table Of Content (TOC)


AUKUS समझौता और क्षेत्र पर इसके व्यापक प्रभाव


औकस के गठन के पक्ष में तर्क

ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और अमेरिका द्वारा घोषित गठबंधन को एशिया-प्रशांत क्षेत्र के लिए एक ऐतिहासिक सुरक्षा समझौते के रूप में देखा जा सकता है, जो चीन का मुकाबला करने के प्रयास के रूप में महत्वपूर्ण हो सकता है। यह ऑस्ट्रेलिया को अमेरिका द्वारा प्रदान की गई तकनीक का उपयोग करके पहली बार परमाणु ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बियों का निर्माण करने में सक्षम बनाएगा।

ये तीन राष्ट्र अतीत में भी एक-दूसरे के सहयोगी रहे हैं- अमेरिका और ब्रिटेन नाटो के सहयोगी हैं, जबकि ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और अमेरिका 'एएनज़ूस' समझौते के तहत एक दूसरे के साथ संबद्ध हैं। तीनों देश 'फाइव-आइज' इंटेलिजेंस एलायंस के भी सदस्य हैं।

हालाँकि, इस घोषणा ने इस मंच की भविष्य की प्रासंगिकता और दीर्घकालिक अस्तित्व पर एक प्रश्न चिह्न लगा दिया है, क्योंकि भारत-प्रशांत क्षेत्र के लिए चतुर्भुज सुरक्षा संवाद (QUAD) पहले ही स्थापित हो चुका है।

इस व्यापक पैमाने के गठबंधन में पहले से कहीं अधिक कमजोर ब्रेक्सिट ब्रिटेन को शामिल करना भी आलोचना का विषय हो सकता है।


क्वाड और इंडो-पैसिफिक पर प्रभाव


ऐसी आशंका है कि AUKUS का US-EU संबंधों और उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (NATO) पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है और यह भारत-प्रशांत क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय गठबंधन को कमजोर कर सकता है।


प्रारंभिक प्रतिक्रिया के रूप में, फ्रांस ने संयुक्त राष्ट्र में ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस और भारत के विदेश मंत्रियों की एक निर्धारित बैठक को रद्द कर दिया है। वर्षों से यह त्रिपक्षीय जुड़ाव उभरते हुए इंडो-पैसिफिक आर्किटेक्चर में एक महत्वपूर्ण तत्व बन गया है। इस प्रकार, बैठक को रद्द करने से त्रिपक्षीय जुड़ाव पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।


यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि क्वाड और औकस एक-दूसरे को सुदृढ़ करेंगे या परस्पर अनन्य रहेंगे। कुछ मान्यताएँ यह भी हैं कि 'एंग्लोस्फीयर राष्ट्रों' के बीच एक-दूसरे पर अधिक भरोसा है - जो ब्रिटेन के साथ सांस्कृतिक और ऐतिहासिक संबंध साझा करते हैं।

भारत पर प्रभाव


भारत के बहिष्कार: 'ऑकस' का निर्माण चीन को कड़ा संदेश देने का एक प्रयास है। हालांकि, चीन द्वारा इस गठबंधन को 'एक्सक्लूजनरी ब्लॉक' कहना क्वाड और मालाबार फोरम के दो सदस्यों, भारत और जापान के लिए भी बहस का विषय है, जिन्हें नए समूह से बाहर कर दिया गया है।

हिंद-प्रशांत क्षेत्र में नेतृत्व के लिए अमेरिका के नए साझेदार:

भारत-अमेरिका सुरक्षा संबंधों की कुछ प्रमुख उपलब्धियां: 2008 में भारत-अमेरिका असैन्य परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर; 2012 में शुरू की गई रक्षा प्रौद्योगिकी और व्यापार पहल; वर्ष 2016 में अमेरिकी कांग्रेस द्वारा भारत को 'मेजर डिफेंस पार्टनर' का दर्जा प्रदान करना; भारत को टियर- I का दर्जा प्रदान करना जो उसे उच्च-प्रौद्योगिकी वस्तुओं का निर्यात करने में सक्षम बनाता है; और वर्ष 2018 में दोनों देशों के बीच "2+2 डायलॉग" की शुरुआत हुई। वर्ष 2020 में चौथे और अंतिम 'फाउंडेशनल एग्रीमेंट' पर हस्ताक्षर के साथ, यह माना गया कि घनिष्ठ रक्षा संबंधों के मार्ग में अंतिम बाधा है। दोनों देशों के बीच भी हटा दिया गया है।


लेकिन 'ऑकस' की स्थापना के साथ, यह आशंका बढ़ गई है कि यह अमेरिकी नीति में उलटफेर की शुरुआत हो सकती है, जहां भारत-प्रशांत क्षेत्र में नेतृत्व के लिए ऑस्ट्रेलिया के रूप में एक नए साथी की तलाश की जा रही है।


चीन की प्रतिक्रिया


चीन ने दुनिया भर के देशों से 'आधिपत्य और विभाजन' का विरोध करने का आह्वान किया है। चीन ने स्पष्ट किया है कि वह ऐसे कृत्यों का विरोध करता है जो अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को कमजोर करते हैं, संघर्ष पैदा करते हैं और तथाकथित नियम बनाने के बैनर तले विभाजन पैदा करते हैं।

वहीं चीन खुद कृत्रिम द्वीपों के निर्माण और उन्हें गढ़वाले हवाई अड्डों में बदलने की राह पर आगे बढ़ रहा है। अमेरिका और संबद्ध नौसेनाओं द्वारा नियमित रूप से "नेविगेशन की स्वतंत्रता" अभियानों के कार्यान्वयन ने चीन को न तो डिगा और न ही हतोत्साहित किया है।

चीन ने भारतीय सीमा के साथ और भी अधिक आक्रामक रुख अपनाया है, जहां उसने भारतीय क्षेत्र के एक बड़े हिस्से पर दावा करने के लिए व्यापार-पैमाने पर सैन्य तैनाती का इस्तेमाल किया है, जिससे जून 2020 से संघर्ष हो रहा है। भारत, निस्संदेह काफी आर्थिक कीमत पर, अपनी स्थिति पर कायम है। जवाबी कार्रवाई में मैदान। यह खतरनाक टकराव अभी जारी रहने की संभावना है।

क्वाड, शायद इस डर से कि इसे 'एशियाई नाटो' करार दिया जाएगा, ने न तो कोई चार्टर बनाया है और न ही कोई महत्वपूर्ण कदम आगे बढ़ाया है। दूसरी ओर, चीन ने क्वाड को यह कहते हुए खारिज करने का प्रयास किया है कि यह "एक शीर्षक-हथियाने वाला विचार है जो जल्द ही विलुप्त हो जाएगा।"


आगे का रास्ता

जबकि भारत-अमेरिका संबंधों में वृद्धि भारतीयों के लिए राहत की बात है, भारत को इस द्विपक्षीय कथा में अतिरंजित और अस्पष्ट वास्तविकताओं के प्रति सतर्क रहना चाहिए। 'भारत को एक महान शक्ति बनाने' में मदद करने के लिए अमेरिका की पेशकश और यह घोषणा कि 'दुनिया के दो महान लोकतंत्रों के पास दुनिया की दो सबसे बड़ी सेनाएं भी होनी चाहिए' को उत्साह के साथ नहीं लिया जाना चाहिए और इसकी आलोचना की जानी चाहिए। शांति से सोचना चाहिए।

माना जाता है कि अमेरिका द्वारा प्रदान की गई या चोरी की गई उन्नत तकनीक के साथ चीन ने पिछले 30 वर्षों में अपनी स्थिति को काफी मजबूत किया है। भारत को अपनी 'रणनीतिक साझेदारी' का प्रदर्शन करने के लिए अमेरिकी कंपनियों से लगभग 22 बिलियन डॉलर का सैन्य हार्डवेयर खरीदना पड़ा है, जो 'आत्मनिर्भरता' और 'बाहरी निर्भरता से मुक्ति' के भारतीय लक्ष्य के मद्देनजर एक विशिष्ट प्रतिगामी कदम है। हमें ऑस्ट्रेलिया को प्रदान की जाने वाली सभी तकनीकों (उनके सैद्धांतिक और व्यावहारिक ज्ञान सहित) की भी आवश्यकता है, जिसमें पनडुब्बियों के साथ-साथ विमान वाहक के लिए स्टील्थ फाइटर्स, जेट इंजन, उन्नत रडार और परमाणु प्रणोदन शामिल हैं।

अपनी पूर्ण क्षमता को प्राप्त करने के लिए, भारत को अपनी अर्थव्यवस्था को बहाल करने के साथ-साथ एकाधिकार के खिलाफ सुरक्षा के लिए पर्याप्त समय या अवसर की आवश्यकता होगी। यह राहत उसे उन्नत तकनीक तक पहुंचने और अपनी सैन्य शक्ति को बढ़ाने में सक्षम बनाएगी। भारत को अपने स्वयं के संघर्षों से निपटने की तैयारी करते हुए एक बाहरी संतुलन खोजने की आवश्यकता होगी। इसे पुरानी धारणाओं को तोड़कर 'रियलपोलिटिक' की मांगों और आवश्यकताओं के अनुसार नई साझेदारी में प्रवेश करने की भी आवश्यकता है।


फ्रांस और यूरोप के साथ मजबूत संबंध बनाना:

लंबे समय तक, यूरोप भारत के लिए कूटनीतिक रूप से गतिहीन क्षेत्र बना रहा। जब से भारत ने महसूस किया है कि छोटे लक्जमबर्ग से लेकर उभरते पोलैंड तक हर यूरोपीय देश में भारत के साथ बहुत कुछ समान है, यूरोप भारत के अंतरराष्ट्रीय संबंधों का एक प्रमुख केंद्र बन गया है।

फ्रांस के साथ भारत की रणनीतिक साझेदारी ने पिछले कुछ वर्षों में गति पकड़ी है। उदाहरण के लिए, भारत सरकार ने हिंद महासागर की सुरक्षा पर फ्रांस के साथ काम करने के लिए दिल्ली की पहले की अनिच्छा को त्याग दिया है।

पिछले कुछ वर्षों में, भारत ने यूके के साथ एक नई साझेदारी बनाने का प्रयास किया है, जो दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है, एक प्रमुख वित्तीय केंद्र और एक तकनीकी शक्ति है, और वैश्विक मामलों में बहुत महत्व रखता है।


भारत को निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना होगा:

सबसे पहले, भारत को फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और अमेरिका को याद दिलाना चाहिए कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र की सुरक्षा में उनके साझा हित निहित हैं और यह कि आपसी संघर्ष इस बड़े लक्ष्य को कमजोर करने का खतरा है।

दूसरा, इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में प्रभावी प्रतिरोध के लिए विशाल भूभाग की आवश्यकताओं को उजागर करना और यह नोट करना कि सभी क्षेत्रों (प्रभावी पानी के नीचे की क्षमताओं से लेकर कृत्रिम बुद्धिमत्ता, क्वांटम कंप्यूटिंग और साइबर युद्ध तक) की पहचान AUKUS द्वारा की गई है, अमेरिका, ब्रिटेन के लिए पर्याप्त अवसर हैं। , फ्रांस और अन्य यूरोपीय देश अमेरिका में उच्च प्रौद्योगिकी और रक्षा-औद्योगिक सहयोग के विकास के लिए अतिव्यापी गठजोड़ में भारत-प्रशांत भागीदारों के साथ सहयोग करने के लिए


निष्कर्ष

भारत के हित फ्रांस और यूरोप के साथ-साथ क्वाड और 'एंग्लोस्फीयर राष्ट्रों' के साथ गहन रणनीतिक सहयोग में निहित हैं। भारत-प्रशांत गठबंधन में विभाजन को रोकने के लिए, पश्चिम के साथ भारत के विविध संबंधों का पूरा लाभ उठाया जाना चाहिए।


तो दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी यह पोस्ट ! इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है। इसके अलावे अगर बीच में कोई समस्या आती है तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें। अगर आप चाहें तो अपना सवाल हमारे ईमेल Personal Contact Form को भर कर भी भेज सकते हैं। हमें आपकी सहायता करके ख़ुशी होगी । इससे सम्बंधित और ढेर सारे पोस्ट हम आगे लिखते रहेगें । इसलिए हमारे ब्लॉग “Hindi Variousinfo” को अपने मोबाइल या कंप्यूटर में Bookmark (Ctrl + D) करना न भूलें तथा सभी पोस्ट अपने Email में पाने के लिए हमें अभी Subscribe करें। अगर ये पोस्ट आपको अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। आप इसे whatsapp , Facebook या Twitter जैसे सोशल नेट्वर्किंग साइट्स पर शेयर करके इसे और लोगों तक पहुचाने में हमारी मदद करें। धन्यवाद !

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad