Computer का आविष्कार कैसे हुआ? यह कैसे काम करता है?

Computer का आविष्कार कैसे हुआ? यह कैसे काम करता है? कंप्यूटर क्या है? इसी को आज का टॉपिक बनाकर हमने यह लेख लिखा है। सीधे शब्दों में कहें तो कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है। आप सभी शायद इस उत्तर को पहले से ही जानते होंगे। तो आप सोच रहे होंगे कि क्यों आज फिर से यह लेख जिसके बारे में हम पहले से ही सब कुछ जानते हैं।


Table of content (TOC)


बस इंतज़ार करें। मैं आपको बताना चाहता हूं कि आज एक बेसिक कंप्यूटर क्या है, जिसमें से आप पहले से ही कुछ जानते होंगे, लेकिन मेरा उद्देश्य है कि आपको पूरे कंप्यूटर की जानकारी दी जाए न कि आधा अधूरा। मुझे पता है कि आप कंप्यूटर का बुनियादी ज्ञान जानते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह कैसे काम करता है, इसे पहले किसने बनाया, यह किस लूप से गुजरा है। वर्षों में कंप्यूटर की विशेषताओं में कितने परिवर्तन देखे गए।

आज हम जिस कंप्यूटर का उपयोग कर रहे हैं, वह इसके पीछे कई वैज्ञानिकों की वर्षों की मेहनत का परिणाम है। दूसरी ओर, आधे अधूरे ज्ञान से बेहतर, आपको पूरा ज्ञान होना चाहिए। आज मैं इस लेख के साथ आप लोगों को इस डिवाइस के बारे में पूरी जानकारी देना चाहता हूं कि कंप्यूटर क्या है, इसका मुख्य भाग क्या है, कंप्यूटर का पूर्ण रूप और यह कैसे काम करता है। तो देर किस बात की आइए शुरू करते हैं और जानते हैं कि कंप्यूटर क्या होता है।


कंप्यूटर क्या है? What is Computer

कंप्यूटर एक मशीन है जो कुछ निर्देशों के अनुसार कार्य करता है। यह एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जिसे सूचना के साथ काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह शब्द कंप्यूटर लैटिन शब्द "computerare" से लिया गया है। इसका अर्थ है गणना करना या गणना करना।

इसके मुख्य रूप से तीन कार्य होते हैं। पहला है डेटा जिसे हम इनपुट भी कहते हैं, दूसरा काम उस डेटा को प्रोसेस करना है और फिर उस प्रोसेस्ड डेटा को दिखाना है जिसे आउटपुट भी कहा जाता है।

Input Data →  Processing → Output Data


कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया? Who invented the computer?


कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया-Who invented computer?
चार्ल्स बैबेज को आधुनिक कंप्यूटर का जनक कहा जाता है। क्योंकि उन्होंने सबसे पहले मैकेनिकल कंप्यूटर को डिजाइन किया था, जिसे एनालिटिकल इंजन के नाम से भी जाना जाता है। इसमें पंच कार्ड की मदद से डाटा डाला जाता था।

तो हम एक कंप्यूटर को एक ऐसे उन्नत इलेक्ट्रॉनिक उपकरण के रूप में कह सकते हैं जो इनपुट के रूप में उपयोगकर्ता से कच्चा डेटा लेता है, फिर उस डेटा को एक प्रोग्राम (निर्देश के सेट) के माध्यम से संसाधित करता है और अंत में आउटपुट के रूप में परिणाम देता है। प्रकाशित करता है। यह संख्यात्मक और गैर संख्यात्मक (अंकगणित और तार्किक) दोनों गणनाओं को संसाधित करता है।




कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है? What is the full form of computer?

तकनीकी रूप से कंप्यूटर का कोई फुल फॉर्म नहीं होता है। फिर भी, कंप्यूटर का एक काल्पनिक पूर्ण रूप है,

  • C – Commonly, 
  • O – Operated, 
  • M – Machine, 
  • P – Particularly, 
  • U – Used for, 
  • T – Technical and 
  • E – Educational, 
  • R – Research


कंप्यूटर का इतिहास - कंप्यूटर का निर्माण History of Computer – Generation of Computer

यह ठीक से सिद्ध नहीं किया जा सकता है कि कंप्यूटर का विकास कब से शुरू हुआ। लेकिन आधिकारिक तौर पर कंप्यूटर के विकास को पीढ़ी के अनुसार वर्गीकृत किया गया है। इन्हें मुख्य रूप से 5 भागों में बांटा गया है।

जब कंप्यूटर की पीढ़ी की बात आती है, तो इसका मतलब है कि कंप्यूटर की पीढ़ी। जैसे-जैसे कंप्यूटर विकसित हुआ, उन्हें अलग-अलग पीढ़ियों में विभाजित किया गया ताकि उन्हें ठीक से समझना आसान हो।

कंप्यूटर की पहली पीढ़ी (the first generation of computer)– 1940-1956 “Vacuum Tubes”

पहली पीढ़ी के कंप्यूटरों में सर्किटरी के लिए वैक्यूम ट्यूब और मेमोरी के लिए मैग्नेटिक ड्रम का इस्तेमाल किया जाता था। वे आकार में काफी बड़े हुआ करते थे। इन्हें चलाने में बहुत शक्ति का प्रयोग होता था।

बहुत बड़ा होने के कारण इसमें गर्मी की भी काफी समस्या होती थी, जिसके कारण यह कई बार खराब हो जाता था। इनमें मशीनी भाषा का प्रयोग होता था। उदाहरण के लिए, UNIVAC और ENIAC कंप्यूटर।


कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी (Second generation of computers) – 1956-1963 “Transistors”

दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में, ट्रांजिस्टर ने वैक्यूम ट्यूबों की जगह ले ली। ट्रांजिस्टर बहुत कम जगह लेते थे, छोटे थे, तेज थे, सस्ते थे और अधिक ऊर्जा कुशल थे।

वे पहली पीढ़ी के कंप्यूटरों की तुलना में कम गर्मी उत्पन्न करते थे लेकिन फिर भी, इसमें गर्मी की समस्या थी। इसमें COBOL और FORTRAN जैसी हाई-लेवल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जाता था।

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी (The third generation of computers) – 1964-1971 “Integrated Circuits”

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में पहली बार इंटीग्रेटेड सर्किट का इस्तेमाल किया गया था। जिसमें ट्रांजिस्टर छोटे होते थे और सिलिकॉन चिप के अंदर डाले जाते थे, जिसे सेमी-कंडक्टर कहा जाता है। इसका फायदा यह हुआ कि कंप्यूटर की प्रोसेसिंग क्षमता काफी हद तक बढ़ गई।

इस पीढ़ी के कंप्यूटरों को अधिक उपयोगकर्ता के अनुकूल बनाने के लिए पहली बार मॉनिटर, कीबोर्ड और ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग किया गया था। इसे पहली बार बाजार में उतारा गया है।


कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी (Fourth generation of computer) – 1971-1985 “Microprocessors”

चौथी पीढ़ी की खासियत यह है कि इसमें माइक्रोप्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया था। जिससे एक ही सिलिकॉन चिप में हजारों इंटीग्रेटेड सर्किट लगे हुए थे। इससे मशीन के आकार को कम करना बहुत आसान हो गया। माइक्रोप्रोसेसर के उपयोग से कंप्यूटर की दक्षता और भी अधिक बढ़ जाती है। यही कार्य समय में बहुत बड़ी गणना करने में सक्षम था।

कंप्यूटर की पांचवी पीढ़ी (Fifth generation of computers) – 1985-present “Artificial Intelligence”

पांचवी पीढ़ी आज के दौर की है जहां आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ने अपना दबदबा कायम कर लिया है। अब नई तकनीक जैसे स्पीच रिकग्निशन, पैरेलल प्रोसेसिंग, क्वांटम कैलकुलेशन जैसी कई उन्नत तकनीकें उपयोग में आ रही हैं।
  यह एक ऐसी पीढ़ी है जहां कंप्यूटर की आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के कारण अपने आप निर्णय लेने की क्षमता आ गई है। धीरे-धीरे इसके सारे काम ऑटोमेटिक हो जाएंगे।

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया (Who invented computer) 

आधुनिक कंप्यूटर का जनक किसे कहा जाता है? कंप्यूटर के जनक चार्ल्स बैबेज, इतने सारे लोगों ने इस कंप्यूटिंग क्षेत्र में योगदान दिया है। लेकिन इन सब में से चार्ल्स बैबेज का योगदान ज्यादा है। क्योंकि वह 1837 में एनालिटिकल इंजन के साथ आने वाले पहले व्यक्ति थे।

इस इंजन में ALU, बेसिक फ्लो कंट्रोल और इंटीग्रेटेड मेमोरी की अवधारणा को लागू किया गया था। इसी मॉडल के आधार पर आज के कंप्यूटर को डिजाइन किया गया। इसलिए उनका योगदान सबसे ज्यादा है। इसलिए उन्हें कंप्यूटर का जनक भी कहा जाता है।


कंप्यूटर की परिभाषा - definition of computer

किसी भी modern digital कंप्यूटर के कई components हैं लेकिन उन में से कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण है जैसे Input device, Output Device, CPU(Central Processing Unit), Mass Storage Device और Memory.
accepts dataInput
processes dataProcessing
produces outputOutput
stores resultsStorage


कंप्यूटर कैसे कार्य करता है - 

Input (Data): इनपुट वह चरण है जिसमें इनपुट डिवाइस का उपयोग करके कंप्यूटर में कच्ची जानकारी डाली जाती है। यह एक पत्र, चित्र या एक वीडियो भी हो सकता है।

Process: प्रक्रिया के दौरान इनपुट किए गए डेटा को निर्देश के अनुसार संसाधित किया जाता है। यह पूरी तरह से आंतरिक प्रक्रिया है।

Output: डेटा जो आउटपुट के दौरान पहले ही संसाधित हो चुका है, परिणाम के संदर्भ में दिखाया गया है। और हम चाहें तो इस रिजल्ट को सेव करके भविष्य में उपयोग के लिए मेमोरी में रख सकते हैं।

कंप्यूटर की मूल यूनिटों का नामांकित चित्र- Nominee image of basic computer units


Computer का आविष्कार कैसे हुआ? यह कैसे काम करता है? कंप्यूटर क्या है?
Photo credit-google.com

डेटा जो आउटपुट के दौरान पहले ही संसाधित हो चुका है, परिणाम के संदर्भ में दिखाया गया है। और हम चाहें तो इस रिजल्ट को सेव करके भविष्य में उपयोग के लिए मेमोरी में रख सकते हैं।

Motherboard

किसी भी कंप्यूटर के मुख्य सर्किट बोर्ड को मदरबोर्ड कहा जाता है। यह एक पतली प्लेट की तरह दिखता है, लेकिन इसमें सीपीयू, मेमोरी, हार्ड ड्राइव और ऑप्टिकल ड्राइव के लिए कनेक्टर, वीडियो और ऑडियो को नियंत्रित करने के लिए एक्सपेंशन कार्ड, साथ ही कंप्यूटर के सभी घटकों जैसी कई चीजें हैं। बंदरगाहों से संबंध। देखा जाए तो मदरबोर्ड कंप्यूटर के सभी पुर्जों से सीधे या सीधे तौर पर जुड़ा होता है।

CPU/Processor

क्या आप जानते हैं सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट यानी सीपीयू क्या है? यह भी कहा जाता है। यह कंप्यूटर केस के अंदर मदरबोर्ड में पाया जाता है। इसे कंप्यूटर का दिमाग भी कहा जाता है। यह एक कंप्यूटर के भीतर सभी गतिविधियों पर नजर रख रहा है। प्रोसेसर की स्पीड जितनी ज्यादा होगी, वह उतनी ही जल्दी प्रोसेसिंग कर पाएगा।

RAM

RAM को हम Random Acess Memory के नाम से भी जानते हैं। यह सिस्टम की शॉर्ट टर्म मेमोरी है। जब भी कंप्यूटर कुछ गणना करता है, तो वह अस्थायी रूप से उस परिणाम को RAM में सहेजता है। यदि कंप्यूटर बंद कर दिया जाता है, तो यह डेटा भी खो जाता है। यदि हम कोई दस्तावेज़ लिख रहे हैं, तो उसे नष्ट होने से बचाने के लिए हमें अपने डेटा को बीच-बीच में सहेज कर रखना चाहिए। सेव करके अगर डेटा को हार्ड ड्राइव में सेव किया जाता है, तो यह लंबे समय तक टिका रह सकता है।

RAM को मेगाबाइट (MB) या गीगाबाइट (GB) में मापा जाता है। हमारे पास जितनी अधिक RAM होगी, यह हमारे लिए उतना ही अच्छा होगा।

Hard Drive

हार्ड ड्राइव वह घटक है जहां सॉफ़्टवेयर, दस्तावेज़ और अन्य फ़ाइलें सहेजी जाती हैं। इसमें डाटा को लंबे समय तक स्टोर किया जाता है।

Power Supply Unit

बिजली आपूर्ति इकाई का काम मुख्य बिजली आपूर्ति से बिजली लेना और आवश्यकता के अनुसार अन्य घटकों को आपूर्ति करना है।

Expansion Card

सभी कंप्यूटरों में एक्सपेंशन स्लॉट होते हैं ताकि हम भविष्य में एक्सपेंशन कार्ड जोड़ सकें। इन्हें पीसीआई (पेरिफेरल कंपोनेंट्स इंटरकनेक्ट) कार्ड भी कहा जाता है। लेकिन आज के मदरबोर्ड में पहले से ही कई स्लॉट हैं। कुछ विस्तार कार्डों के नाम जिनका उपयोग हम पुराने कंप्यूटरों को अपडेट करने के लिए कर सकते हैं।
  • Video Card
  • Sound card
  • Network Card
  • Bluetooth Card (Adapter)

कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर

हम कंप्यूटर हार्डवेयर को ऐसी कोई भी भौतिक डिवाइस कह सकते हैं जिसका हम अपने कंप्यूटर में उपयोग करते हैं, जबकि कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर का अर्थ है कोड का संग्रह जो हम हार्डवेयर को चलाने के लिए अपनी मशीन की हार्ड ड्राइव में स्थापित करते हैं।

उदाहरण के लिए, कंप्यूटर मॉनीटर जिसे हम नेविगेट करने के लिए उपयोग करते हैं, माउस जिसे हम नेविगेट करने के लिए उपयोग करते हैं, ये सभी कंप्यूटर हार्डवेयर हैं। साथ ही जिस इंटरनेट ब्राउजर से हम वेबसाइट पर जाते हैं और वह ऑपरेटिंग सिस्टम जिसमें वह इंटरनेट ब्राउजर चलता है। ऐसी चीजों को हम सॉफ्टवेयर कहते हैं।
हम कह सकते हैं कि कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर का एक संयोजन है, दोनों की भूमिकाएँ समान हैं, दोनों एक साथ कोई भी काम कर सकते हैं।

कंप्यूटर के प्रकार – Types of Computer in Hindi


जब भी हम कंप्यूटर शब्द का प्रयोग सुनते हैं तो हमारे दिमाग में पर्सनल कंप्यूटर की ही तस्वीर आती है। मैं आप लोगों को बता दूं कि कंप्यूटर कई प्रकार के होते हैं। विभिन्न आकार और आकारों में आता है। हम जरूरत के हिसाब से इनका इस्तेमाल करते हैं, जैसे पैसे निकालने के लिए एटीएम, बारकोड को स्कैन करने के लिए स्कैनर, कोई भी बड़ी गणना करने के लिए कैलकुलेटर। ये सभी अलग-अलग प्रकार के कंप्यूटर हैं।

1. Desktop

बहुत से लोग अपने घरों, स्कूलों और अपने निजी काम के लिए डेस्कटॉप कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं। इन्हें इस तरह से डिजाइन किया गया है कि हम इन्हें अपने डेस्क पर रख सकें। इनमें मॉनिटर, कीबोर्ड, माउस, कंप्यूटर केस जैसे कई पार्ट होते हैं।

2. Laptop

आप लैपटॉप के बारे में तो जानते ही होंगे जो बैटरी से चलने वाले होते हैं, ये बहुत ही पोर्टेबल होते हैं जिससे इन्हें कहीं भी और कभी भी ले जाया जा सकता है।

3. Tablet

अब बात करते हैं टैबलेट की, जिसे हम हैंडहेल्ड कंप्यूटर भी कहते हैं क्योंकि इसे हाथों में आसानी से पकड़ा जा सकता है।
इसमें कीबोर्ड और माउस नहीं है, बस एक टच सेंसिटिव स्क्रीन है जिसका इस्तेमाल टाइपिंग और नेविगेशन के लिए किया जाता है। उदाहरण- आईपैड।

4. Servers

सर्वर एक प्रकार का कंप्यूटर है जिसका उपयोग हम सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए करते हैं। उदाहरण के तौर पर जब भी हम इंटरनेट पर कुछ सर्च करते हैं तो वह सारी चीजें सर्वर में ही स्टोर हो जाती हैं।

अन्य प्रकार के कंप्यूटर (Other types of Computers)

आइए अब जानते हैं कि अन्य प्रकार के कंप्यूटर क्या हैं।

Smartphone: जब एक सामान्य सेल फोन में इंटरनेट इनेबल हो जाता है, तो हम उसके इस्तेमाल से कई काम कर सकते हैं, तो ऐसे सेल फोन को स्मार्टफोन कहा जाता है.

पहनने योग्य: पहनने योग्य तकनीकी उपकरणों के एक समूह के लिए एक सामान्य शब्द है - जिसमें फिटनेस ट्रैकर्स और स्मार्टवॉच शामिल हैं - जिन्हें पूरे दिन पहनने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इन उपकरणों को अक्सर पहनने योग्य कहा जाता है।

गेम कंसोल: यह गेम कंसोल भी एक विशेष प्रकार का कंप्यूटर है जिसका उपयोग आप अपने टीवी पर वीडियो गेम खेलने के लिए करते हैं।

टीवी: टीवी भी एक प्रकार का कंप्यूटर है जिसमें अब कई एप्लिकेशन या ऐप शामिल हैं जो इसे स्मार्ट टीवी में बदल देते हैं। वहीं, अब आप इंटरनेट से सीधे अपने टीवी पर वीडियो स्ट्रीम कर सकते हैं।

कंप्यूटर का उपयोग – Application of Computer in Hindi

कंप्यूटर का उपयोग कहाँ किया जाता है? देखा जाए तो हम अपने जीवन में हर जगह कंप्यूटर का इस्तेमाल करते आए हैं और आगे भी करते रहेंगे। यह हमारा एक हिस्सा जैसा बन गया है। मैंने आपकी जानकारी के लिए इसके कुछ उपयोग नीचे लिखे हैं।

शिक्षा के क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग: शिक्षा में इनका सबसे बड़ा हाथ होता है, अगर कोई छात्र किसी चीज के बारे में जानकारी चाहता है, तो इसकी मदद से कुछ ही मिनटों में यह जानकारी उसे उपलब्ध हो जाती है। शोध से पता चला है कि कंप्यूटर की मदद से किसी भी छात्र के सीखने के प्रदर्शन में काफी वृद्धि हुई है। आजकल घर बैठे ऑनलाइन क्लासेज की मदद से पढ़ाई की जा सकती है।

स्वास्थ्य और चिकित्सा: यह स्वास्थ्य और चिकित्सा के लिए वरदान है। इसकी मदद से आजकल मरीजों का इलाज बड़ी आसानी से हो जाता है। आजकल सब कुछ डिजिटल हो गया है, जिससे बीमारी का आसानी से पता चल जाता है और उसी के अनुसार उसका इलाज भी संभव है। इससे कामकाज भी आसान हो गया है।

विज्ञान के क्षेत्र में कंप्यूटर का प्रयोग : यह विज्ञान की देन है। इससे शोध बहुत आसान हो जाता है। आजकल एक नया चलन चल रहा है जिसे Collaboratory भी कहा जाता है, ताकि दुनिया के सभी वैज्ञानिक एक साथ काम कर सकें, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप देश में किस देश से हैं।

व्यवसाय: उत्पादकता और प्रतिस्पर्धात्मकता बढ़ाने के लिए व्यवसाय में इसका बहुत बड़ा हाथ है। यह मुख्य रूप से मार्केटिंग, रिटेलिंग, बैंकिंग, स्टॉक ट्रेडिंग में उपयोग किया जाता है। यहां सभी चीजें डिजिटल होने के कारण इसकी प्रोसेसिंग बहुत तेज हो गई है। और आजकल कैशलेस ट्रांजेक्शन को ज्यादा महत्व दिया जा रहा है।

मनोरंजन और मनोरंजन: यह मनोरंजन का एक नया अड्डा बन गया है, आप फिल्मों, खेल या रेस्तरां जैसी किसी भी चीज़ की बात करें, उनका उपयोग हर जगह किया जाता है।

सरकार: आजकल सरकार भी इनके इस्तेमाल पर ज्यादा ध्यान दे रही है. ट्रैफिक, टूरिज्म, इंफॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग, एजुकेशन, एविएशन की बात करें तो हर जगह इनके इस्तेमाल से हमारा काम बहुत आसान हो गया है।

रक्षा : सेना में भी इनका प्रयोग काफी हद तक बढ़ गया है। जिसकी मदद से अब हमारी सेना और ताकतवर हो गई है। क्योंकि आजकल सब कुछ कंप्यूटर की मदद से नियंत्रित होता है।

ऐसी कई जगह हैं जहां हम अपनी जरूरत के हिसाब से इसका इस्तेमाल करते हैं.


कंप्यूटर के लाभ - benefits of computer

वैसे यह कहना बिल्कुल भी गलत नहीं होगा कि कंप्यूटर ने अपनी अविश्वसनीय गति, सटीकता और भंडारण की मदद से हम इंसानों के जीवन को बहुत आसान बना दिया है।
इससे लोग जब चाहें कुछ भी सेव कर सकते हैं और आसानी से कुछ भी सर्च कर सकते हैं। हम कह सकते हैं कि कंप्यूटर एक बहुत ही बहुमुखी मशीन है क्योंकि यह अपना काम करने में बहुत लचीला है।

लेकिन इसके बावजूद हम यह भी कह सकते हैं कि कंप्यूटर एक बहुत ही बहुमुखी मशीन है क्योंकि यह अपना काम करने में बहुत लचीला है, जबकि इन मशीनों के कुछ महत्वपूर्ण फायदे और नुकसान भी हैं।
आइए जानते हैं उनके बारे में।

मल्टीटास्किंग: मल्टीटास्किंग कंप्यूटर का एक बड़ा फायदा है।
इसमें एक व्यक्ति कई कार्यों, कई कार्यों, संख्यात्मक समस्याओं की गणना कुछ ही सेकंड में आसानी से कर सकता है। कंप्यूटर आसानी से प्रति सेकंड खरबों निर्देशों की गणना कर सकता है।

गति: अब यह केवल गणना करने वाला उपकरण नहीं रह गया है।
अब यह हमारे जीवन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है।
इसका बड़ा फायदा इसकी उच्च गति है, जो इसे किसी भी कार्य को पूरा करने में मदद करती है, वह भी बहुत कम समय में।
इसमें लगभग सभी ऑपरेशन तुरंत किए जा सकते हैं, नहीं तो उन्हें करने में काफी समय लग जाता।

लागत / स्टोर बड़ी मात्रा में डेटा करते हैं: यह एक कम लागत वाला समाधान है। क्योंकि इसमें एक व्यक्ति कम बजट में बड़ी मात्रा में डेटा को सेव कर सकता है। एक केंद्रीकृत डेटाबेस का उपयोग करके, बहुत अधिक मात्रा में जानकारी संग्रहीत की जा सकती है, ताकि लागत काफी हद तक अर्जित की जा सके।

शुद्धता: ये कंप्यूटर अपनी गणना के बारे में बहुत सटीक होते हैं, इनमें गलती होने की संभावना न के बराबर होती है।

डेटा सुरक्षा: डिजिटल डेटा की सुरक्षा को डेटा सुरक्षा कहा जाता है। कंप्यूटर हमारे डिजिटल डेटा को अनधिकृत उपयोगकर्ताओं जैसे साइबर हमले या एक्सेस अटैक से बचाता है।

कंप्यूटर के हानि - 

आइए अब जानते हैं कंप्यूटर के कुछ नुकसानों के बारे में।
वायरस और हैकिंग अटैक: वायरस एक विनाशकारी कार्यक्रम है और हैकिंग को अनधिकृत पहुंच कहा जाता है जिसमें मालिक को आपके बारे में पता नहीं होता है।

ये वायरस ईमेल अटैचमेंट के माध्यम से आसानी से फैल सकते हैं, कभी-कभी यूएसबी से भी, या किसी भी संक्रमित वेबसाइट से आपके कंप्यूटर तक पहुंचा जा सकता है।
जबकि एक बार यह आपके कंप्यूटर में पहुंच जाता है तो आपके कंप्यूटर को बर्बाद कर देता है।

ऑनलाइन साइबर अपराध: इन ऑनलाइन साइबर अपराधों को करने के लिए कंप्यूटर और नेटवर्क का उपयोग किया जाता है। जबकि साइबरस्टॉकिंग और पहचान की चोरी भी इन ऑनलाइन साइबर-अपराधों के अंतर्गत आते हैं।

रोजगार के अवसर में कमी: चूंकि कंप्यूटर एक साथ कई कार्य करने में सक्षम है, इसलिए रोजगार के अवसर का भारी नुकसान होता है।

इसलिए बैंकिंग क्षेत्र से लेकर किसी भी सरकारी क्षेत्र तक आप देखते हैं कि लोगों के स्थान पर सभी कंप्यूटरों को अधिक महत्व दिया जाता है। तो बेरोजगारी केवल बढ़ रही है।

दूसरे नुकसान की बात करें तो उसके पास IQ नहीं है, यह पूरी तरह से उपयोगकर्ताओं पर निर्भर करता है, इसकी कोई भावना नहीं है, यह स्वयं कोई निर्णय नहीं ले सकता है।

कंप्यूटर का भविस्य

वैसे तो कंप्यूटर में दिन-ब-दिन काफी सारे तकनीकी बदलाव आ रहे हैं। दिन-ब-दिन यह अधिक किफायती और अधिक प्रदर्शन और अधिक क्षमता के साथ होता जा रहा है। जैसे-जैसे लोगों की जरूरत बढ़ेगी इसमें और भी बदलाव देखने को मिलेंगे। पहले यह एक घर के आकार का था, अब यह हमारे हाथों में समा रहा है।
एक समय आएगा जब यह हमारे मन द्वारा नियंत्रित किया जाएगा। आजकल वैज्ञानिक आप्टिकल कंप्यूटर, डीएनए कंप्यूटर, न्यूरल कंप्यूटर और क्वांटम कंप्यूटर पर अधिक शोध कर रहे हैं। इसके साथ ही आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर भी काफी ध्यान दिया जा रहा है ताकि यह अपने आप अपना काम सुचारू रूप से कर सके।

आज आप ने क्या सिखा?

अब तक आपको कंप्यूटर का हिन्दी में परिचय मिल ही गया होगा। मुझे पूरी उम्मीद है कि मैंने आपको कंप्यूटर क्या है और कंप्यूटर के प्रकार के बारे में पूरी जानकारी दी है और मुझे उम्मीद है कि आप इस कंप्यूटर तकनीक के बारे में समझ गए होंगे।

आसानी से अब आप बेझिझक उत्तर दे सकते हैं कि कंप्यूटर क्या है। मैं आप सभी पाठकों से निवेदन करता हूं कि आप भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने दोस्तों में शेयर करें ताकि हमारे बीच जागरूकता आए और इससे सभी को बहुत फायदा होगा। मुझे आपके सहयोग की आवश्यकता है ताकि मैं आप लोगों तक और नई जानकारी पहुंचा सकूं।

आपको यह लेख कंप्यूटर कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मौका मिले।

Topics covered: What is the full form of the computer, History of Computer Generation of Computer, the first generation of computer 1940 1956 Vacuum Tubes, Second generation of computers, The third generation of computers, Fourth generation of computer, Fifth generation of computers, Who invented the computer, the definition of computer, how the computer works, Nominee image of basic computer units, Types of Computer in Hindi, Application of Computer in Hindi, benefits of computer, disadvantages of a computer,

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad