Essay on APJ Abdul Kalam in Hindi - एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध

दोस्तों आज के इस लेख में हम आपको एपीजे अब्दुल कलाम निबंध के बारे में सरल भाषा में बताएंगे - एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध हिंदी में यानी एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध कैसे लिखे इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे यानी आपको एपीजे अब्दुल कलाम पर मिल जाएंगे। इसमें 1200 शब्दों का निबंध उपलब्ध होगा, इसलिए इस लेख को पूरा पढ़ना होगा। आपके लिए उपयोगी साबित होगा।


एपीजे अब्दुल कलाम को पूरी दुनिया भारत के मिसाइल मैन के नाम से जानती है। एपीजे अब्दुल कलाम भारत के 11वें राष्ट्रपति थे, उन्होंने बहुत लगन से देश की सेवा की है। एपीजे अब्दुल कलाम देश के सबसे प्रसिद्ध वैज्ञानिकों में से एक हैं। एपीजे अब्दुल कलाम ने देश की मिसाइल प्रणाली को मजबूत करने, तकनीक और मिसाइल के काम में काफी काम किया।

Essay on APJ Abdul Kalam in Hindi - एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध


एपीजे अब्दुल कलाम भारत के सबसे सरल राष्ट्रपति में से एक हैं, उन्होंने देश के लोगों को एकता और अखंडता का ज्ञान दिया, उन्होंने देश की शिक्षा प्रणाली और देश में शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए जीवन भर बहुत काम किया, आज भी सभी बच्चे एपीजे अब्दुल कलाम को अपना गुरु मानते हैं और उनके बताए रास्ते पर चलते हैं।


एपीजे अब्दुल कलाम ने हमारे देश को परमाणु सक्षम बनाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जब हमारे देश में पहली बार परमाणु परीक्षण किया गया था, तब इस परीक्षण के मुख्य लोग और वैज्ञानिक थे एपीजे अब्दुल कलाम, उन्होंने देश को परमाणु शक्ति दी थी। .

TABLE OF CONTENTS(TOC)

एपीजे अब्दुल कलाम की जीवनी (Biography of APJ Abdul kalam in Hindi)

भारत रत्न डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 OCTOBER 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम जिले में हुआ था। उनका जन्म रामेश्वरम के एक मध्यमवर्गीय मुस्लिम परिवार में हुआ था। APJ Abdul kalam का पूरा नाम अबुल पकिर जलालुद्दीन अब्दुल कलाम( Abul Pakir Jalaluddin Abdul Kalam) है, उनके पिता का नाम जलालुद्दीन कलाम है।


उनके पिता बहुत पढ़े-लिखे नहीं थे और न ही वे किसी बड़े व्यवसाय से जुड़े थे। वह रामेश्वरम के मछुआरों को मछली पकड़ने के लिए नाव किराए पर देता था। एपीजे अब्दुल कलाम एक संयुक्त परिवार में रहते थे, उनका बचपन रामेश्वरम में बीता, इसलिए उन्हें हिंदू और मुस्लिम दोनों रीति-रिवाजों की बहुत अच्छी समझ थी, उन्होंने रामेश्वरम से ही देश की एकता को समझा।


डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का बचपन से ही पढ़ाई के प्रति बहुत रुझान था, उन्होंने अपनी पढ़ाई के लिए बहुत मेहनत की। डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के जीवन में उनके पिता का बहुत महत्वपूर्ण योगदान था। एपीजे अब्दुल कलाम के पिता ने उन्हें लगन और लगन से काम करने का अमूल्य मंत्र दिया और डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने इस मंत्र को जीवन भर हर काम में लागू किया।


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम पायलट बनना चाहते थे और उन्होंने अपनी मेहनत से अपनी इच्छा पूरी की, उन्होंने खुद इसका अध्ययन किया और इसके बाद वे एक फाइटर जेट उड़ाने में सक्षम हुए।


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा 5 साल की उम्र में अपने गांव के प्राथमिक विद्यालय से की थी। उनके शिक्षक ने उनसे कहा कि जीवन में सफल होने के लिए व्यक्ति को अपना काम विश्वास और लगन के साथ करते रहना चाहिए।


तभी आप अपने हर काम में सफल होंगे, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने अपने पिता और शिक्षक की इन बातों को हमेशा अपने जीवन में उतारा और आज भी उन्हें हमारे देश के मिसाइल मैन के रूप में जाना जाता है, उन्होंने अपना पूरा जीवन शिक्षा और अपने जीवन में बिताया। देश। देश के विकास और ताकत के लिए।


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा और आगे की शिक्षा को जारी रखने के लिए बहुत मेहनत की, उन्होंने अपनी पढ़ाई के लिए अखबार बेचने का काम भी किया, वे रोज सुबह उठकर रामेश्वरम स्टेशन जाते थे और अखबार लाते थे और उन अखबारों को रामेश्वरम में बेचते थे। .


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने खुद इन अंग्रेजी अखबारों को पढ़ा और इन अंग्रेजी अखबारों की मदद से उन्हें अंग्रेजी का अच्छा ज्ञान मिला, इन अखबारों की मदद से उन्होंने अपनी आगे की पढ़ाई भी की और साथ ही साथ बहुत महत्वपूर्ण ज्ञान हासिल किया।


डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का बचपन से सपना था कि वे अंतरिक्ष विज्ञान के बारे में जानें और इस क्षेत्र में अच्छा काम करें, इसलिए उन्होंने 1950 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी(Madras Institute of Technology) से अंतरिक्ष विज्ञान (space science) में स्नातक की डिग्री हासिल की।


1950 में स्नातक की डिग्री लेने के बाद, उनका चयन DRDO (रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन) के होवरक्राफ्ट प्रोजेक्ट में काम करने के लिए हुआ।


एपीजे अब्दुल कलाम ने 1962 में इसरो में अपने काम के दौरान कई स्वदेशी उपग्रहों के कार्यक्रम में काम किया और इन कार्यक्रमों में उन्होंने बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।


डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान के परियोजना निदेशक भी बने और उन्होंने पहला स्वदेशी उपग्रह SLV-3 लॉन्च किया। इसकी सफलता का श्रेय डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को दिया गया।


उन्होंने भारत के कई महत्वपूर्ण उपग्रहों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जैसे रोहिणी उपग्रह जो पृथ्वी की कक्षा के पास स्थापित है डॉ एपीजे अब्दुल कलाम भारत के अंतरिक्ष के क्षेत्र को दुनिया में एक अलग पहचान मिली।


आज इसरो की सफलता और ऊंचाई का श्रेय डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को दिया जाता है क्योंकि उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान इस क्षेत्र के विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को इसरो के प्रक्षेपण यान कार्यक्रम को इतना सफल बनाने का श्रेय भी जाता है, उन्होंने देश के विकास के लिए वह सब कुछ किया जो वह कर सकते थे।


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को मिसाइल मैन भी कहा जाता है क्योंकि उन्होंने देश को गाइडेड मिसाइल गिफ्ट की थी। देश में पहली गाइडेड मिसाइल को डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने तैयार किया था। उन्होंने देश को पृथ्वी और अग्नि जैसी शक्तिशाली निर्देशित मिसाइलें प्रदान कीं।


एपीजे अब्दुल कलाम देश के आधुनिक अंतरिक्ष और आधुनिक हथियारों की बर्बादी करते हैं, उन्होंने अंतरिक्ष और हथियारों दोनों के क्षेत्र में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, उन्होंने देश को नई तकनीक की दुनिया में लाया।


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने 1992 से 1999 तक रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार के रूप में भी कार्य किया। डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को सुरक्षा अनुसंधान और विकास विभाग का सचिव भी बनाया गया था।


आज हमारा भारत देश एक परमाणु संपन्न देश है, इसका श्रेय भी डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को ही जाता है, जब प्रधानमंत्री अटल बिहारी जी ने गुप्त रूप से परमाणु परीक्षण करने का निर्णय लिया, तब इस परियोजना के प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम थे।


प्रधानमंत्री अटल बिहारी जी (Prime Minister Atal Bihari) ने इस परियोजना की सारी जिम्मेदारी डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को दी, डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने इस जिम्मेदारी को पूरी तरह से निभाया और परमाणु परीक्षण को सफलतापूर्वक अंजाम दिया।


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने अपना पूरा जीवन देश के सीखने और विकास में लगा दिया, उन्हें देश के लोगों के रूप में जाना जाता है क्योंकि वे एक बहुत ही सरल व्यक्ति थे।


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम 2002 में राष्ट्रपति चुने गए थे और राष्ट्रपति पद पर रहते हुए, उन्होंने देश के तकनीकी क्षेत्र और विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण कदम उठाए और देश को एक नए तकनीकी युग में ले गए।


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम 2007 में राष्ट्रपति पद से सेवानिवृत्त हुए। इसके बाद वे शिक्षा के क्षेत्र में आए और 2015 तक उन्होंने कई विश्वविद्यालयों और विश्वविद्यालयों में अतिथि प्रोफेसर के रूप में और अन्ना विश्वविद्यालय में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग (aerospace engineering) के प्रोफेसर के रूप में कार्य किया। 


2015 में हमारे देश में इस महान व्यक्तित्व को खो दिया 2015 में आईआईएम शिलांग में 'रहने योग्य ग्रह' विषय पर व्याख्यान देते समय उन्हें दिल का दौरा पड़ा और इस दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई।


डॉ एपीजे अब्दुल कलाम हमारे देश के महानतम व्यक्तियों में से एक हैं, उन्होंने देश की शिक्षा को एक नए युग में लाया और देश को एक नए तकनीकी युग में लाया। एपीजे अब्दुल कलाम को दिया गया है।

Dr. APJ Abdul Kalam Books In Hindi 

न्यूनतम कीमत पर खरीदने के लिए नीचे क्लिक करें


तो दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी यह पोस्ट ! इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है। इसके अलावे अगर बीच में कोई समस्या आती है तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें। अगर आप चाहें तो अपना सवाल हमारे ईमेल Personal Contact Form को भर कर भी भेज सकते हैं। हमें आपकी सहायता करके ख़ुशी होगी । इससे सम्बंधित और ढेर सारे पोस्ट हम आगे लिखते रहेगें । इसलिए हमारे ब्लॉग “Hindi Variousinfo” को अपने मोबाइल या कंप्यूटर में Bookmark (Ctrl + D) करना न भूलें तथा सभी पोस्ट अपने Email में पाने के लिए हमें अभी Subscribe करें। अगर ये पोस्ट आपको अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। आप इसे whatsapp , Facebook या Twitter जैसे सोशल नेट्वर्किंग साइट्स पर शेयर करके इसे और लोगों तक पहुचाने में हमारी मदद करें। धन्यवाद !

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad