QR code का आविष्कार कैसे हुआ , कैसे काम करता है?

क्यूआर कोड देखने में बहुत आसान लगता है लेकिन यह कई अलग-अलग उपयोगों में आता है। QR Code का फुल फॉर्म क्विक रिस्पॉन्स कोड होता है, यानी एक ऐसा कोड जिसका जवाब जल्दी दिया जा सकता है। इस कोड की सहायता से उपयोगकर्ता कोई भी जानकारी प्राप्त कर सकता है जो उस कोड को बनाते समय शामिल है। आइए विस्तार से जानते हैं कि QR Code क्या है?


QR code क्या है, कैसे काम करता है? In hindi

Table of contents (TOC)

QR Code क्या है?

क्यूआर कोड एक चौकोर आकार का ग्रिड होता है जिसमें अल्फ़ान्यूमेरिक जानकारी होती है जिसे डिजिटल मशीन द्वारा पढ़ा जा सकता है। इन डिजिटल मशीनों को क्यूआर कोड स्कैनर कहा जाता है। हालांकि अब इसे मोबाइल के कैमरे के जरिए आसानी से एक्सेस किया जा सकता है, इसके लिए आपको अपने मोबाइल में एक ऐप इंस्टॉल करना पड़ सकता है। आप इन ऐप्स को Play Store पर QR कोड स्कैनर नाम से पा सकते हैं।

आईफोन, वीवो, ओप्पो, सैमसंग, श्याओमी जैसे कई मोबाइल ब्रांड अपने कैमरा ऐप में ही बिल्ट-इन क्यूआर स्कैनिंग फीचर देते हैं।

QR Code का आविष्कार

क्यूआर कोड सिस्टम का आविष्कार 1994 में एक जापानी कंपनी डेंसो वेव ने किया था। कंपनी टोयोटा की सहायक कंपनी थी। इस कंपनी के लिए क्यूआर सिस्टम का उद्देश्य केवल निर्माण प्रक्रिया के दौरान वाहन के पुर्जों को अधिक सटीक रूप से ट्रैक करना था। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए, उन्होंने एक प्रकार का बारकोड विकसित किया जिसमें अल्फ़ान्यूमेरिक काना और कांजी वर्णों का उपयोग किया गया था। उसके बाद उन्होंने इस तकनीक को ओपन सोर्स घोषित कर दिया ताकि कोई भी इसका इस्तेमाल कर सके।

पहला मोबाइल क्यूआर स्कैनर जापान में 2002 में विकसित किया गया था। इस आविष्कार का उद्देश्य क्यूआर कोड के उपयोग को बढ़ाना है। आमतौर पर बारकोड के गिरने की दिशा केवल ऊपर से नीचे की ओर होती है, इस बारकोड में अल्फ़ान्यूमेरिक संरचना का उपयोग करके थोड़ी मात्रा में डेटा संग्रहीत किया जाता है। लेकिन क्यूआर कोड में अधिक जानकारी संग्रहीत की जा सकती है क्योंकि इसे दाएं से बाएं और ऊपर से नीचे तक पढ़ा जा सकता है।

QR Code का इस्तेमाल कहा कहा होता है

क्यूआर कोड की मदद से कई काम किए जा सकते हैं, क्योंकि इसमें ज्यादा डेटा स्टोर करने की क्षमता होती है, इसके कुछ उदाहरण नीचे दिए गए हैं।

1. पैसे देने के लिए।

2. एक लिंक बनाना जो ऐप को सीधे Google Play Store/App Store से डाउनलोड कर सके।

3. पासवर्ड प्रदान किए बिना क्यूआर कोड को स्कैन करके वाई-फाई सुविधा प्रदान करना।

4. इंटरनेट पर खाते में लॉगिन करने के लिए।

5. सभी उत्पाद जानकारी प्राप्त करने के लिए

6. किसी भी दस्तावेज़ की सत्यता को शीघ्रता से सत्यापित करें।


QR Code कैसे काम करता है?

किसी भी क्यूआर कोड में 3 कोनों में बड़े-बड़े ब्लॉक होते हैं जो अपना अलाइनमेंट दिखाते हैं, इन तीनों ब्लॉक को पहचानने के बाद ही क्यूआर रीडर को पता चलता है कि इन तीनों ब्लॉक के अंदर क्यूआर कोड लिखा हुआ है।

क्यूआर रीडर पूरे ब्लॉक को एक ग्रिड में तोड़ देता है और कोड की जांच शुरू कर देता है। जांचता है कि ग्रिड वर्ग में काला या सफेद रंग है या नहीं और रंग के अनुसार मान निर्दिष्ट करता है। उसके बाद, यह सभी ग्रिड वर्गों को समूहीकृत करके एक बड़ा पैटर्न बनाता है।


QR code स्कैन कैसे करें?

क्यूआर कोड को स्कैन करने के लिए स्मार्टफ़ोन में अंतर्निहित क्यूआर स्कैनर या कैमरे होते हैं। अगर आप पुराने मोबाइल में कोड स्कैन करना चाहते हैं, तो आपको Google Play Store या App Store से एक विशेष ऐप इंस्टॉल करना होगा।

मोबाइल के साथ क्यूआर कोड स्कैनिंग बहुत आसान है

1. अपने मोबाइल में कैमरा या क्यूआर स्कैनर एप्लिकेशन खोलें

2. रीडर ऐप को कोड पर इंगित करके स्कैन करें

3. डेटा पढ़ने के बाद ऐप मोबाइल स्क्रीन पर दिखाई देगा।


क्या कोई क्यूआर कोड हैक कर सकता है?

क्यूआर कोड को हैक करना असंभव है, लेकिन क्यूआर कोड के जरिए आपका क्यूआर कोड डेस्टिनेशन हैक किया जा सकता है।

हमेशा एक विश्वसनीय क्यूआर कोड को स्कैन करें या यह एक दुर्भावनापूर्ण कोड हो सकता है जो आपकी व्यक्तिगत जानकारी चुरा सकता है या आपके स्थान को ट्रैक कर सकता है।

तो दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी यह पोस्ट ! इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है। इसके अलावे अगर बिच में कोई समस्या आती है तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें। धन्यवाद !

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad