नेटवर्क टोपोलॉजी क्या है ? इसके प्रकार जानिए ( What is network topology? know its types )

Hello friends! इस पोस्ट में हम बात करने वाले हैं कि नेटवर्क टोपोलॉजी क्या होती है ? और इसके प्रकार क्या क्या है? जैसे बस टोपोलॉजी| स्टार टोपोलॉजी रिंग टोपोलॉजी| मैश टोपोलॉजी ये क्या है और इनके लाभ क्या है। ( What is network topology? And what is its type? such as bus topology. Star Topology|Ring Topology|What is mesh topology and what are its benefits.)

नेटवर्क टोपोलॉजी क्या होती है ? और इसके प्रकार क्या क्या है? जैसे बस टोपोलॉजी| स्टार टोपोलॉजी| रिंग टोपोलॉजी| मैश टोपोलॉजी ये क्या है और इनके लाभ क्या है। ( What is network topology? And what is its type? such as bus topology. Star Topology|Ring Topology|What is mesh topology and what are its benefits.)


Table of contents (toc)


नेटवर्क टोपोलॉजी क्या है? ( Network Topology ) 

कम्प्यूटर नेटवर्क में कम्प्यूटरों को आपस में जोड़ने के तरीके को टोपोलॉजी कहते है। किसी टोपोलॉजी के प्रत्येक कम्प्यूटर , नोड या लिंक स्टेशन कहलाते है। दूसरे शब्दों में, टोपोलॉजी नेटवर्क में कम्प्यूटरों को जोड़ने की भौगोलिक व्यवस्था होती है। इसके द्वारा विभिन्न कम्प्यूटर एक - दूसरे से परस्पर सम्पर्क स्थापित कर सकते है।

नेटवर्क टोपोलॉजी एक नेटवर्क के लेआउट को संदर्भित करता है। नेटवर्क में अलग-अलग नोड्स एक-दूसरे से कैसे जुड़े होते हैं और वे कैसे संचार करते हैं, यह नेटवर्क की टोपोलॉजी द्वारा निर्धारित किया जाता है। नेटवर्क टोपोलॉजी विभिन्न नोड्स के बीच भौतिक संरचना को संदर्भित करता है। जिस तरह से कंप्यूटर आपस में जुड़े होते हैं उसे नेटवर्क टोपोलॉजी कहा जाता है। कंप्यूटर और उसमें डेटा प्रवाह को जोड़ने की विधि को टोपोलॉजी कहा जाता है। टोपोलॉजी एक नेटवर्क में कंप्यूटर की ज्यामितीय व्यवस्था है। टोपोलॉजी नेटवर्क की संरचना को परिभाषित करती है कि सभी घटक एक दूसरे से कैसे संबंधित हैं। एक व्यवस्था जिसमें कंप्यूटर सिस्टम या नेटवर्क डिवाइस एक दूसरे से जुड़े होते हैं। इसे हम नेटवर्क टोपोलॉजी कहते हैं।


नेटवर्क टोपोलॉजी निम्नलिखित प्रकार की होती है।

1. बस टोपोलॉजी ( BUS Topology )

इस टोपोलॉजी में एक लम्बे केबल से युक्तियाँ जुड़ी होती है। यह नेटवर्क इन्स्टॉलेशन छोटे अथवा अल्पकालीन ब्रॉडकास्ट के लिए बस टोपोलॉजी होता है। इस प्रकार के नेटवर्क टोपोलॉजी का प्रयोग ऐसे स्थानों पर किया जाता है, जहाँ अत्यन्त उच्च गति के कम्युनिकेशन चैनल का प्रयोग सीमित क्षेत्र में किया जाना है। परन्तु यदि कम्प्युनिकेशन चैनल खराब हो तो पूरा नेटवर्क खराब हो जाता है।

BUS Topology

Bus Topology के लाभ ( Advantages )

( i )इसमें नए नोड जोड़ना अथवा पुराने नोड हटाना बहुत आसान होता जाए।

( ii )किसी एक कम्प्यूटर के खराब होने पर सम्पूर्ण नेटवर्क प्रभावित नहीं होता परन्तु इसमें खराब हुए नोड का पता लगाना बहुत कठिन है।

( iii )इसकी लागत बहुत कम होती है।

2. स्टार टोपोलॉजी ( Star Topology )

इस टोपोलॉजी के अन्तर्गत एक होस्ट कम्प्यूटर होता है, जिससे विभिन्न लोकल कम्प्यूटरों ( नोड ) को सीधे जोड़ा जाता है। यह होस्ट कम्प्यूटर हब कहलाता है। इस हब के फेल होने से पूरा नेटवर्क फेल हो सकता है।

Star Topology

Star topology के लाभ ( Advantages )

( i )यदि कोई लोकल नोड कम्प्यूटर खराब हो जाए , तो शेष नेटवर्क प्रभावित नहीं होता । इस स्थिति में खराब हुए नोड कम्प्यूटर का पता लगाना आसान होता है।

( ii )एक कम्प्यूटर को होस्ट कम्प्यूटर से जोड़ने में कम लागत आती है।

( iii )लोकल कम्प्यूटर की संख्या बढ़ाने से नेटवर्क की सूचना के आदान प्रदान की क्षमता प्रभावित नहीं होती।

3. रिंग टोपोलॉजी ( Ring Topology )

इस टोपोलॉजी में कोई हब या एक लम्बी केबल नहीं होती। सभी कम्प्यूटर एक गोलाकार आकृति के रूप में केबल द्वारा जुड़े होते हैं। प्रत्येक कम्प्यूटर अपने अधीनस्थ कम्प्यूटर से जुड़ा होता है। इसमें किसी भी एक कम्प्यूटर के खराब होने पर सम्पूर्ण रिंग बाधित होती है। यह गोलाकार आकृति सर्कुलर नेटवर्क भी कहलाती है।

Ring Topology

Ring Topology के लाभ ( Advantages )

( i ) इसमें छोटे केबल की आवश्यकता होती है।

( ii ) यह ऑप्टिकल फाइबर में एक दिशा में डेटा के प्रवाह के लिए सर्वाधिक उपयुक्त है।

4. मैश टोपोलॉजी ( Mesh Topology )

इस टोपोलॉजी का प्रत्येक कम्प्यूटर , नेटवर्क में जुड़े अन्य सभी कम्प्यूटरों से सीधे जुड़ा होता है। इसी कारण से इसे ( Point - to - Point ) नेटवर्क या ( Completely Connected ) नेटवर्क भी कहा जाता है। इसमें डेटा के आदान - प्रदान का प्रत्येक निर्णय कम्प्यूटर स्वयं ही लेता हैं।

Mesh Topology

लाभ ( Advantages )

( i ) ये टोपोलॉजी अधिक दूरी के नेटवर्क के लिए सर्वाधिक उपयुक्त होती है।

( ii ) इस टोपोलॉजी में किसी एक कम्प्यूटर के खराब होने पर पूरा संचार बाधित नहीं होता है।

5. ट्री टोपोलॉजी ( Tree Topology )

इस टोपोलॉजी में एक नोड से दूसरी नोड तथा दूसरी नोड से तीसरी नोड , किसी पेड़ की शाखाओं की तरह जुड़ी होती है। यही ट्री टोपोलॉजी कहलाती है। ट्री टोपोलॉजी , स्टार टोपोलॉजी का ही विस्तृत रूप है। इस टोपोलॉजी में रूट ( Root ) नोड सर्वर की तरह कार्य करता है।

Tree Topology

लाभ( Advantages )

1. इस टोपोलॉजी में नेटवर्क को आसानी से बढ़ाया जा सकता है।

2. यह टोपोलॉजी पदानुक्रम ( Hierarchical ) डेटा के संचार के लिए सर्वाधिक उपयुक्त है।


तो दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी यह पोस्ट ! इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है। इसके अलावे अगर बिच में कोई समस्या आती है तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें। धन्यवाद !

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad