वैश्विक व्यवस्था की वर्तमान स्थिति और भारत के लिए इसके इष्टतम उपयोग के उपाय

वैश्विक व्यवस्था की वर्तमान स्थिति और भारत के लिए इसके इष्टतम उपयोग के उपाय (Current status of the global order and measures for its optimum utilization for India)


किसी भी अन्य देश की तरह, भारत की विदेश नीति में भी अपने प्रभाव क्षेत्र का विस्तार करने, विभिन्न राष्ट्रों के बीच अपनी भूमिका बढ़ाने और अपनी उपस्थिति को एक उभरती हुई शक्ति की तरह महसूस कराने की परिकल्पना की गई है।

वैश्विक व्यवस्था की वर्तमान स्थिति और भारत के लिए इसके इष्टतम उपयोग के उपाय (Current status of the global order and measures for its optimum utilization for India)


विदेश नीति के उद्देश्यों की पूर्ति की दृष्टि से वर्ष 2021 कई चुनौतियाँ और अवसर लेकर आया है। नए परिदृश्यों के लिए नई सोच की आवश्यकता होती है। वर्तमान वैश्विक व्यवस्था की बदलती गतिशीलता को देखते हुए भारत को सावधानीपूर्वक कार्रवाई करने की आवश्यकता है।

Table of content (TOC)

वर्तमान वैश्विक व्यवस्था (Current global order)

वर्तमान में विश्व असंतुलन और दिशाहीनता का शिकार है। हम न तो द्विध्रुवीय शीत युद्ध की स्थिति में हैं और न ही बहुध्रुवीय व्यवस्था की ओर बढ़ रहे हैं, बल्कि धीरे-धीरे पूरी दुनिया कई शक्ति केंद्रों में विभाजित होती जा रही है।

COVID-19 महामारी के लिए एक सुसंगत या सुसंगत अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया की अनुपस्थिति ने दुनिया में एक अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था की अनुपस्थिति और बहुपक्षीय संस्थानों की अप्रभावीता की पुष्टि की है।

जलवायु परिवर्तन और अन्य अंतरराष्ट्रीय खतरों के प्रति अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया भी अप्रभावी रही है।

वैश्वीकरण और संरक्षणवाद से पीछे हटना, व्यापार का क्षेत्रीयकरण, शक्ति संतुलन में बदलाव, चीन और अन्य शक्तियों का उदय, और चीन-अमेरिका रणनीतिक प्रतिद्वंद्विता ने दुनिया के भू-राजनीतिक और आर्थिक गुरुत्वाकर्षण केंद्रों को एशिया में स्थानांतरित कर दिया।

राज्यों के बीच और भीतर असमानता की स्थिति ने संकीर्ण राष्ट्रवाद और क्षेत्रवाद को जन्म दिया है। हम एक नए ध्रुवीकृत युग में प्रवेश कर रहे हैं और 'एंथ्रोपोसीन' युग के पारिस्थितिक संकट का सामना कर रहे हैं, जहां जलवायु परिवर्तन एक अस्तित्व के लिए खतरा बनता जा रहा है।


'एशियाई सदी' 'Asian Century'

यह अनुमान लगाया गया है कि आने वाले दशक में एशिया भू-राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता का एक प्रमुख क्षेत्र बना रहेगा, और जबकि अमेरिका की सापेक्ष ताकत घट रही है, यह अभी भी सबसे महत्वपूर्ण शक्तियों में से एक बना रहेगा।

यह समय चीन के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर पेश कर सकता है, हालांकि यह जिस जल्दबाजी में दिखता है, उसे डर है कि पश्चिम और अन्य देशों के प्रतिकूल रवैये के कारण यह अवसर खो सकता है।

चीन का भूगोल उसे जमीन और समुद्री दोनों क्षेत्रों में सक्रिय होने के लिए मजबूर करता है। चीन के प्रभाव और उसकी ताकत को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि आने वाले समय में भी भारतीय क्षेत्र में चीन की गतिविधियां जारी रहेंगी।

इससे भारत और चीन के बीच निरंतर संघर्ष और अर्ध-शत्रुतापूर्ण संबंध बने रहेंगे, जिससे अन्य देशों को लाभ हो सकता है। वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए, टकराव और सहयोग का यह मिश्रित संबंध आने वाले समय में भारत-चीन संबंधों को चिह्नित करता रहेगा।

समग्र रूप से, एशिया में महाशक्तियों के बीच एक पारंपरिक संघर्ष एक वास्तविक स्थिति नहीं हो सकती है, लेकिन इससे अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था में हिंसा और अन्य रूपों और संघर्ष के स्तरों में वृद्धि होगी।

भारत के लिए चुनौतियां (Challenges for India)

चीन की मजबूत स्थिति: चीन एकमात्र प्रमुख देश था जिसने वर्ष 2020 के अंत में सकारात्मक विकास दर दर्ज की और इसकी अर्थव्यवस्था वर्ष 2021 में और अधिक तेजी से बढ़ने की ओर अग्रसर है।
चीन ने 2021 में अपने तीसरे विमानवाहक पोत को लॉन्च करने की घोषणा के साथ ही हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अपना दबदबा बढ़ाने के लिए खुद को मजबूत किया है।

इस संदर्भ में, चीन-भारत संबंधों में किसी बड़े सुधार की कोई संभावना नहीं है, और भारतीय और चीनी सशस्त्र बलों के बीच टकराव जारी रहने की उम्मीद है।

रूस-चीन अक्ष का विकास: रूस क्षेत्रीय मामलों में अधिक से अधिक रुचि दिखा रहा है। इसके अलावा, 2014 में क्रीमिया के कब्जे के बाद रूस पर लगाए गए प्रतिबंधों ने रूस को चीन के करीब ला दिया है।

यह भारत जैसे देशों में उनकी घटती दिलचस्पी को भी दर्शाता है।

साथ ही, अमेरिका से भारत की निकटता ने रूस और ईरान जैसे पारंपरिक मित्रों के साथ भारत के संबंधों को भी कमजोर कर दिया है।

मध्य पूर्व के बदलते समीकरण: इजरायल और चार अरब देशों-संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन, मोरक्को और सूडान के बीच अमेरिका की मध्यस्थता से संबंध-क्षेत्र में बदलते परिदृश्य को दर्शाता है।

हालाँकि, अब्राहम समझौते पर व्यक्त किए गए अति-उत्साह के बावजूद, वास्तविक स्थिति अस्थिर बनी हुई है और अभी भी ईरान और इज़राइल के बीच संघर्ष का खतरा है।

इस क्षेत्र की रणनीतिक परिवर्तनशीलता ईरान को अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए अपनी परमाणु क्षमता का उपयोग करने के लिए प्रेरित कर सकती है।

यह भारत के लिए समस्याग्रस्त है, क्योंकि उसके दोनों देशों के साथ संबंध हैं।

भारत का 'आत्म-अलगाव': वर्तमान में, भारत दो महत्वपूर्ण 'सुपरनैशनल' निकायों- गुटनिरपेक्ष आंदोलन (NAM) और दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संघ (SAARC) से अलग-थलग बना हुआ है, जिसका यह एक संस्थापक सदस्य था।

इसके अलावा, भारत ने क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (RCEP) से भी बाहर होने का विकल्प चुना है।

यह 'आत्म-अलगाव' भारत की वैश्विक शक्ति बनने की आकांक्षा के अनुरूप नहीं है।

पड़ोसी देशों के साथ कमजोर संबंध: भारतीय विदेश नीति के लिए एक अधिक चिंताजनक विषय पड़ोसी देशों के साथ कमजोर संबंध हैं।

इसे श्रीलंका के साथ चीन की 'चेकबुक डिप्लोमेसी', एनआरसी मुद्दे पर बांग्लादेश के साथ तनाव और नए नक्शे के जारी होने के कारण नेपाल के साथ हालिया सीमा विवाद जैसे उदाहरणों से समझा जा सकता है।

Way ahead

अनिश्चितता और लगातार बदलते भू-राजनीतिक वातावरण स्पष्ट रूप से भारतीय नीति के लिए महत्वपूर्ण चुनौतियां पेश करते हैं, जबकि भारत के लिए भारत के रणनीतिक विकल्पों और राजनयिक अवसरों की सीमा का विस्तार करने के अवसर भी हैं यदि हम भारतीय उप-महाद्वीप में आंतरिक और बाह्य रूप से अपनी नीतियों को समायोजित करते हैं।

भारत को एशिया में बहुध्रुवीयता की स्थापना का लक्ष्य रखना चाहिए।

थीम-आधारित गठबंधन: भारत को बदलती परिस्थितियों के साथ तालमेल बिठाना होगा। उसके पास इस अनिश्चित और अधिक अस्थिर दुनिया से संबंधित होने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। ऐसा करने का एक बेहतर तरीका विषय-आधारित गठबंधन स्थापित करना है, जहां विभिन्न अभिनेता शामिल होंगे और उनकी सगाई उनकी रुचि और क्षमता पर आधारित होगी।

ऊर्जा, व्यापार, निवेश, शिक्षा और स्वास्थ्य आदि जैसे भारत के विकास के लिए आवश्यक क्षेत्रों में सहयोग के लिए अमेरिका के साथ सुरक्षा जुड़ाव बढ़ाना भी महत्वपूर्ण हो सकता है।

इसके अलावा, भारत और अमेरिका जलवायु परिवर्तन और ऊर्जा, नवीकरणीय ऊर्जा के लिए तकनीकी समाधान और डिजिटल सहयोग जैसे अन्य क्षेत्रों में सहयोग बढ़ा सकते हैं।

सार्क को पुनर्जीवित करना: भारत हिंद महासागर क्षेत्र में उपमहाद्वीप और पड़ोसी देशों के लिए समृद्धि और सुरक्षा दोनों का प्राथमिक स्रोत बन सकता है। पड़ोसी देशों के प्रति भारत की नीति के अत्यधिक प्रतिभूतिकरण ने व्यापार को भूमिगत कर दिया है, साथ ही देश की सीमाओं का अपराधीकरण कर दिया है और स्थानीय उद्योगों को नष्ट करने वाले पूर्वोत्तर भारत में चीनी सामानों के व्यापक प्रवेश को सक्षम किया है।

चीन पर निर्भरता कम करते हुए और बाहरी संतुलन की तलाश करते हुए भारत के प्राथमिक प्रयासों को 'आत्मनिर्भरता' पर केंद्रित होना चाहिए।

यदि कोई एक देश है जो अपने आकार, जनसंख्या, आर्थिक क्षमता, वैज्ञानिक और तकनीकी क्षमताओं के मामले में चीन की बराबरी कर सकता है या उससे भी आगे निकल सकता है, तो वह भारत है।

'आत्मनिर्भरता' का महत्व: विदेशों में अपनी भूमिका और प्रभाव सुनिश्चित करने के लिए भारत कई कदम उठा सकता है, जो भारत के विकास में सहायक हो सकता है। आर्थिक नीति को राजनीतिक और रणनीतिक जुड़ाव के साथ सामंजस्य बिठाना होगा।

वैश्वीकरण ने भारत के विकास में केंद्रीय भूमिका निभाई है। भारत के लिए अधिक सक्रिय क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय भूमिका वैश्विक अर्थव्यवस्था के हाशिये पर नहीं पाई जा सकती।

वर्तमान दुनिया में आत्मनिर्भरता के लक्ष्य को वैश्विक अर्थव्यवस्था का हिस्सा बनकर ही साकार किया जा सकता है। हमें चीन की नकल नहीं करनी चाहिए, जहां वह एक सभ्य देश होने और 'पीड़ित' होने के दावे के साथ आगे बढ़ रहा है। इसके बजाय, हमें अपनी ताकत और ऐतिहासिक राष्ट्रीय पहचान की पुष्टि करनी चाहिए।

पर्याप्त बाहरी सहायता: चीन के साथ मौजूदा गतिरोध ने 1963 में जवाहरलाल नेहरू द्वारा व्यक्त किए गए विचार की पुष्टि की कि भारत को "पर्याप्त मात्रा में बाहरी सहायता" की आवश्यकता है।

इस संदर्भ में, भारत को फ्रांस, जर्मनी और यूके जैसे यूरोपीय देशों के अलावा अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों से निरंतर समर्थन की आवश्यकता होगी।

भारत को 'इंडो-पैसिफिक' कथा में यूरोप के प्रवेश का स्वागत करना चाहिए, क्योंकि फ्रांस और जर्मनी पहले ही अपनी इंडो-पैसिफिक रणनीति के साथ सामने आ चुके हैं।

Conclusion

संक्षेप में, भारत के अंतरराष्ट्रीय प्रभाव के मूलभूत स्रोतों की रक्षा के लिए आत्मनिर्भरता एक अनिवार्य पूर्व शर्त है। भारत को एक मजबूत, सुरक्षित और समृद्ध देश में बदलने के लिए हम जिस बाहरी रास्ते पर चलना चाहते हैं, उससे हमारे आंतरिक प्रक्षेपवक्र को अलग नहीं रखा जा सकता है।

Various Info Conclusion

तो दोस्तों आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी! शेयरिंग बटन पोस्ट के नीचे इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। इसके अलावा अगर बीच में कोई परेशानी हो तो कमेंट बॉक्स में पूछने में संकोच न करें। आप चाहें तो अपना सवाल हमारे ईमेल पर्सनल कॉन्टैक्ट फॉर्म पर भी भेज सकते हैं। आपकी सहायता कर हमें खुशी होगी। हम इससे जुड़े और भी पोस्ट लिखते रहेंगे। तो अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर हमारे ब्लॉग `VARIOUSINFO` को बुकमार्क (Ctrl + D) करना न भूलें और अपने ईमेल में सभी पोस्ट प्राप्त करने के लिए हमें अभी सब्सक्राइब करें। अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें। आप इसे व्हाट्सएप, फेसबुक या ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइटों पर साझा करके अधिक लोगों तक पहुंचने में हमारी सहायता कर सकते हैं। शुक्रिया!

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad