आपदा प्रबंधन में पंचायती राज संस्थाओं की भूमिका (Role of Panchayati Raj Institutions in Disaster Management)

आपदा प्रबंधन में पंचायती राज संस्थाओं की भूमिका (Role of Panchayati Raj Institutions in Disaster Management)


आपदा प्रबंधन में पंचायती राज संस्थाओं की भूमिका (Role of Panchayati Raj Institutions in Disaster Management)


73वें संविधान संशोधन के माध्यम से स्थानीय निकायों को देश के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए सशक्त बनाने के लिए उन्हें एक मजबूत आधार प्रदान किया गया था। इस संशोधन के माध्यम से पंचायतों को स्थानीय स्वशासन की संस्थाओं के रूप में परिकल्पित किया गया है।

इस संदर्भ में आपदा जोखिम न्यूनीकरण और आपदा उपरान्त प्रबंधन दोनों में 'पंचायती राज संस्थाओं (पीआरआई)' की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है।

दुर्भाग्य से, ये संस्थान अभी तक तैयारी के पूर्व चरण में या आपदा और आपदा के बाद के कार्यों के दौरान एक प्रमुख भूमिका निभाने के लिए पूरी तरह से सशक्त नहीं हैं।

भारत को समग्र रूप से विभिन्न आपदाओं से निपटने के लिए अपनी तैयारियों को अपनी मूल प्रणाली में एकीकृत करना चाहिए।

Table of content (TOC)

पंचायती राज संस्थान और आपदा प्रबंधन (Panchayati Raj Institute and Disaster Management)

भारत में पंचायती राज संस्थान: देश भर में मौजूद 2,60,512 पंचायती राज संस्थाओं की प्रणाली भारतीय लोकतंत्र की रीढ़ की हड्डी के रूप में कार्य करती है।

यह एक स्थानीय स्वशासन प्रणाली है, जो देश भर में लगभग 31 लाख सदस्यों का प्रतिनिधित्व करती है।

COVID-19 महामारी के प्रति पंचायती राज संस्थाओं की प्रतिक्रिया: महामारी के चरम महीनों के बीच, पंचायती राज संस्थाओं ने स्थानीय स्तर पर आवश्यक नेतृत्व प्रदान करके महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

नियामक और कल्याणकारी कार्यों का निष्पादन: पंचायती राज संस्थानों ने 'कंटेनमेंट जोन' स्थापित किए, परिवहन की व्यवस्था की, लोगों को क्वारंटाइन करने के लिए भवनों की पहचान की और प्रवासियों के लिए भोजन की व्यवस्था की।

इसके अलावा, मनरेगा और राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन जैसी कल्याणकारी योजनाओं के प्रभावी कार्यान्वयन ने कमजोर समूहों की आजीविका सुनिश्चित करते हुए पुनरुद्धार की गति को तेज करने में योगदान दिया है।

प्रभावी भागीदारी: महामारी के दौरान, ग्राम सभाओं ने भी 'कोविड-19' मानदंडों का पालन सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

इसके साथ ही, समितियों के माध्यम से आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं जैसी फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं के साथ जुड़ाव ने स्थानीय स्तर पर महामारी से निपटने में मदद की।

स्थानीय निगरानी निकायों का निर्माण: पंचायती राज संस्थानों ने संगरोध केंद्रों की बारीकी से निगरानी करने और घरों में COVID लक्षणों की पहचान करने के लिए गाँव के बुजुर्गों, युवाओं और स्वयं सहायता समूहों (SHG) को शामिल करके समुदाय-आधारित निगरानी प्रणाली बनाई।

भारत में आपदा प्रबंधन (Disaster Management in India)

आपदाओं के प्रति संवेदनशीलता: भारत दुनिया का 10 वां सबसे अधिक आपदा-प्रवण देश है, इसके 28 राज्यों में से 27 और सभी सात केंद्र शासित प्रदेश सबसे कमजोर हैं।

अक्षम मानक संचालन प्रक्रियाएं: 'मानक संचालन प्रक्रियाएं (एसओपी) देश भर में कई जगहों पर लगभग न के बराबर हैं, और जहां वे मौजूद हैं, वहां संबंधित अधिकारी उनसे अपरिचित हैं।

समन्वय का अभाव: राज्य विभिन्न सरकारी विभागों और अन्य हितधारकों के बीच अपर्याप्त समन्वय की समस्या से भी ग्रस्त हैं।

भारतीय आपदा प्रबंधन प्रणाली भी केंद्र/राज्य/जिला स्तर पर संस्थागत ढांचे की कमी से ग्रस्त है।

कमजोर चेतावनी और राहत प्रणाली: भारत में एक मजबूत पूर्व चेतावनी प्रणाली का अभाव है।
राहत एजेंसियों की खराब प्रतिक्रिया, प्रशिक्षित/समर्पित खोज और बचाव टीमों की कमी, और गरीब समुदाय सशक्तिकरण कुछ अन्य प्रमुख चुनौतियां हैं।

आपदा प्रबंधन में पंचायती राज संस्थाओं का महत्व (Importance of Panchayati Raj Institutions in Disaster Management)

जमीन पर आपदाओं से निपटना: पंचायतों को शक्तियों और जिम्मेदारियों के हस्तांतरण से प्राकृतिक आपदाओं के मामले में जमीनी स्तर पर एक लोचदार और प्रतिबद्ध प्रतिक्रिया प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

राज्य सरकार के समन्वय से कार्य कर रही प्रभावी एवं सुदृढ़ पंचायती राज संस्थाएं आपदा से निपटने में पूर्व चेतावनी प्रणाली के माध्यम से मदद करेंगी।

बेहतर राहत कार्य सुनिश्चित करना: चूंकि स्थानीय निकाय आबादी के करीब हैं, इसलिए वे राहत कार्य करने के लिए बेहतर स्थिति में हैं, साथ ही स्थानीय लोगों की जरूरतों से अधिक परिचित हैं।

यह प्रत्येक आपदा के मामले में धन के कार्यान्वयन और उपयोग के मामले में पूर्ण पारदर्शिता सुनिश्चित करेगा।

प्रभावित लोगों को आश्रय और चिकित्सा सहायता प्रदान करने, सिविल सेवाओं के दिन-प्रतिदिन के कार्यों में भी उन पर भरोसा किया जा सकता है।

जागरूकता फैलाना और समर्थन प्राप्त करना: स्थानीय स्व-सरकारी संस्थानों का लोगों के साथ जमीनी स्तर का संपर्क होता है और यह लोगों में जागरूकता फैलाने और किसी भी संकट से निपटने में उनकी भागीदारी सुनिश्चित करने में प्रभावी रूप से मदद कर सकता है।

वे बचाव और राहत कार्यों में गैर सरकारी संगठनों और अन्य एजेंसियों की भागीदारी के लिए एक आदर्श माध्यम भी बनाते हैं।

पंचायती राज संस्थाओं द्वारा सामना की जाने वाली समस्याएं (Problems faced by Panchayati Raj Institutions)

सांसदों और विधायकों का हस्तक्षेप पंचायतों के कामकाज में क्षेत्रीय सांसदों और विधायकों का हस्तक्षेप उनके प्रदर्शन पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।

धन की अनुपलब्धता: पंचायतों को पर्याप्त धन उपलब्ध नहीं कराया जाता है और राज्य-नियंत्रित सरकारी विभागों को अधिक महत्व दिया जाता है, जो पंचायतों के अधिकार क्षेत्र में आने वाले कार्यक्रमों के कार्यान्वयन को भी नियंत्रित कर रहे हैं।

अपूर्ण स्वायत्तता: जिला प्रशासन और राज्य सरकारों द्वारा लगाए गए विभिन्न बाधाओं के कारण पंचायतों में अक्सर स्वतंत्र रूप से कार्य करने के लिए प्रणालियों, संसाधनों और क्षमताओं की कमी होती है।

संविधान द्वारा परिकल्पित 'स्थानीय स्वशासन के संस्थान' बनने के बजाय, पंचायतों को बड़े पैमाने पर राज्य और केंद्र सरकारों द्वारा लिए गए निर्णयों के स्थानीय 'कार्यान्वयनकर्ता' के रूप में कम कर दिया गया है।

पंचायतों के अधिकार क्षेत्र के संबंध में अस्पष्टता: हालांकि पंचायती राज गांव, ब्लॉक और जिला स्तर पर एक त्रिस्तरीय एकीकृत प्रणाली है, लेकिन वे अपने अधिकार क्षेत्र और परिक्षेत्रों के बारे में अस्पष्टता के परिणामस्वरूप काफी हद तक अप्रभावी रहे हैं।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 भी पंचायतों की शक्तियों और जिम्मेदारियों को पर्याप्त रूप से परिभाषित नहीं करता है और संबंधित राज्य सरकारों द्वारा निर्धारित करने के लिए छोड़ दिया गया है।

way ahead

आपदा प्रबंधन कार्यक्रमों के लिए कानूनी सहायता: पंचायत राज अधिनियमों में आपदा प्रबंधन के विषय को शामिल करना और आपदा योजना और व्यय को पंचायती राज विकास योजनाओं और स्थानीय स्तर की समितियों का हिस्सा बनाना बहुत महत्वपूर्ण है।

यह नागरिक केंद्रित मानचित्रण और संसाधनों की योजना सुनिश्चित करेगा।

संसाधन उपलब्धता और आत्मनिर्भरता: सशक्त होने पर, स्थानीय शासन, स्थानीय नेतृत्व और स्थानीय समुदाय किसी भी आपदा के लिए त्वरित और प्रभावी प्रतिक्रिया देने में सक्षम होते हैं।

स्थानीय निकायों को सूचना और मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है, साथ ही ऊपर से निर्देशों की प्रतीक्षा किए बिना आत्मविश्वास से कार्य करने के लिए संसाधनों, क्षमताओं और प्रणालियों की आवश्यकता होती है।

आपदा प्रबंधन प्रतिमान में परिवर्तन: आपदा प्रबंधन के जोखिम शमन सह राहत-केंद्रित दृष्टिकोण को सामाजिक न्याय के साथ आर्थिक विकास की एकीकृत योजना में बदलने की तत्काल आवश्यकता है।

आपदा प्रबंधन के लिए पूर्व चेतावनी प्रणाली, पूर्व तैयारी, निवारक उपाय और लोगों में जागरूकता समान रूप से महत्वपूर्ण हैं। वसूली और पुनर्वास योजना और अन्य राहत उपायों के रूप में।

सामूहिक भागीदारी: समुदाय के लिए नियमित, स्थान-विशिष्ट आपदा-प्रबंधन कार्यक्रम आयोजित करना और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने के लिए मंचों का निर्माण करना व्यक्तिगत और संस्थागत क्षमताओं को मजबूत करेगा।

व्यक्तिगत सदस्यों को भूमिकाएँ सौंपना और उन्हें आवश्यक कौशल प्रदान करना ऐसे कार्यक्रमों को अधिक सार्थक बना सकता है।

लोगों से वित्तीय योगदान प्राप्त करना: सभी ग्राम पंचायतों में सामुदायिक आपदा कोष की स्थापना के माध्यम से समुदाय से वित्तीय योगदान की प्राप्ति को भी प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

आपदा के प्रति प्रतिरोधक क्षमता को सामुदायिक संस्कृति का अभिन्न अंग बनाना अब पहले से कहीं अधिक अनिवार्य हो गया है।

Various Info Conclusion

तो दोस्तों आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी! शेयरिंग बटन पोस्ट के नीचे इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। इसके अलावा अगर बीच में कोई परेशानी हो तो कमेंट बॉक्स में पूछने में संकोच न करें। आप चाहें तो अपना सवाल हमारे ईमेल पर्सनल कॉन्टैक्ट फॉर्म पर भी भेज सकते हैं। आपकी सहायता कर हमें खुशी होगी। हम इससे जुड़े और भी पोस्ट लिखते रहेंगे। तो अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर हमारे ब्लॉग `VARIOUSINFO` को बुकमार्क (Ctrl + D) करना न भूलें और अपने ईमेल में सभी पोस्ट प्राप्त करने के लिए हमें अभी सब्सक्राइब करें। अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें। आप इसे व्हाट्सएप, फेसबुक या ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइटों पर साझा करके अधिक लोगों तक पहुंचने में हमारी सहायता कर सकते हैं। शुक्रिया!

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad