ई- रूपी (e-RUPI) क्या है? इसके लाभ और हानि जानिए। hindi various info

ई- रूपी (e-RUPI) क्या है? इसके लाभ और हानि जानिए। hindi various info


2 अगस्त 2021 को देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कैशलेस और संपर्क रहित डिजिटल भुगतान का एक नया रूप, ई- रूपी (e-rupi) लॉन्च किया गया है। जिसका उद्देश्य डिजिटल भुगतान की सुविधा को सरल और सुरक्षित बनाना है।
 

ई- रूपी (e-rupi) को डिजिटल भुगतान के प्लेटफॉर्म पर एक नए आयाम के रूप में विकसित किया गया है। जो सरकारी योजनाओं का लाभ लेने वाले हितग्राहियों की भुगतान आवश्यकताओं को पूरा करने में विशेष रूप से लाभकारी सिद्ध होगा।

आइए इस लेख के माध्यम से ऑनलाइन भुगतान के क्षेत्र में प्रधानमंत्री द्वारा शुरू किए गए इस नए प्रयास को विस्तार से समझते हैं।


Table of contents (TOC)

ई- रूपी (e-RUPI) क्या है?

ई-रुपी प्रीपेड वाउचर के आधार पर डिजिटल भुगतान करने का एक तरीका है। जिसमें सेवा प्राप्तकर्ता और सेवा प्रदाता व्यक्तिगत रूप से एक दूसरे से संपर्क किए बिना भुगतान कर सकते हैं। इसके अलावा, यह एक कैशलेस सुविधा है, क्योंकि इस प्रणाली में नकद के बजाय ई-वाउचर का उपयोग किया जाता है।

इस वाउचर को बिना किसी ऑनलाइन ट्रांजेक्शन ऐप या इंटरनेट बैंकिंग की मदद के रिडीम किया जा सकता है। इस सुविधा का लाभार्थी अपने फोन पर एसएमएस या क्यूआर कोड के जरिए ई-रुपी वाउचर प्राप्त करता है। इस प्रीपेड वाउचर का उपयोग किसी भी केंद्र पर किया जा सकता है जहां इसे स्वीकार करने की सुविधा उपलब्ध है।

उदाहरण के लिए, यदि सरकार मुश्किल समय में अपने एक कर्मचारी के अस्पताल भुगतान का खर्च खुद वहन करना चाहती है। फिर वह सिस्टम में शामिल होने वाले बैंक के माध्यम से भुगतान राशि के लिए ई-रुपी वाउचर जारी करेगी।

इसके बाद कर्मचारी के फोन पर एसएमएस या क्यूआर कोड आएगा। जिसके बाद वह अपने फोन पर आने वाले ई-रुपी वाउचर के माध्यम से अस्पताल में सुविधा प्राप्त कर अस्पताल के खर्च का भुगतान कर सकेंगे।


ई- रूपी (e-rupi) कब लॉन्च हुआ तथा किसके द्वारा विकसित किया गया ?

तकनीकी भुगतान सुविधा ई-रूपी (ई-आरयूपीआई) 2 अगस्त 2021 को भारत के प्रधान मंत्री द्वारा शुरू की गई थी। इसके अतिरिक्त, भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) ने वाउचर आधारित भुगतान ई-रूपी (ई-आरयूपीआई) लॉन्च किया है। आधुनिक कैशलेस सुविधाओं का विस्तार करने के लिए प्रणाली।


ई-रूपी डिजिटल प्रणाली को पूरी तरह से भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम द्वारा स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण और वित्तीय सेवा विभाग की सहायता से विकसित किया गया है।


ई-रूपी (e-RUPI) के क्या लाभ हैं?

ई-रूपी डिजिटल प्रणाली का लाभ सेवा प्रदाता के साथ-साथ सेवा प्राप्त करने के लिए भी फायदेमंद है। इस प्रणाली के माध्यम से सरकार द्वारा आयोजित विभिन्न सामाजिक योजनाओं का प्रत्यक्ष लाभ प्राप्त होगा।


ई-रूपी (e-RUPI) भुगतान सुविधा के लाभ

  • उपभोक्ताओं को लाभ R11; ई-रुपये की सेवा का लाभ उठाने वाले ग्राहकों के लिए बैंक खाता होना आवश्यक नहीं है।
  • साथ ही बिना इंटरनेट बैंकिंग सुविधा के भी इस सुविधा का लाभ उठाया जा सकता है।
  • इस सिस्टम के जरिए जिन लोगों के पास स्मार्टफोन नहीं है वे भी इस सुविधा का फायदा उठा सकते हैं। क्योंकि ई-रूपी प्रणाली में किसी भी फोन पर उपयुक्त एसएमएस जारी किया जा सकता है।
  • इसके माध्यम से लाभार्थी को किसी से संपर्क करने की आवश्यकता नहीं होगी और वह सुरक्षित और पारदर्शी तरीके से नकद और अन्य सुविधाएं प्राप्त कर सकेगा। इस प्रणाली के माध्यम से लाभार्थी की व्यक्तिगत जानकारी को भी गोपनीय रखा जाएगा।
  • इसके अलावा आयुष्मान प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, मातृत्व एवं बाल कल्याण योजना, टीवी उन्मूलन कार्यक्रम, उर्वरक सब्सिडी, उर्वरक सब्सिडी आदि योजनाओं का लाभ प्रदान करने के लिए भी ई-रुपी प्रणाली का उपयोग किया जा सकता है।
  • सेवा प्रदाता को लाभ - ई-रुपया एक डिजिटल प्रीपेड वाउचर-आधारित भुगतान प्रणाली है। इसलिए, इसके माध्यम से सेवा प्रदाताओं को बिना किसी मध्यस्थ के वास्तविक समय भुगतान और सुरक्षित भुगतान का आश्वासन मिलेगा।

ई-रूपी (e-RUPI) से क्या हानि है?

जहां एक ओर ई-रूपी डिजिटल प्रणाली से कई लाभ प्राप्त होते हैं, वहीं ई-रूपी की सेवा से कई लाभ प्राप्त होते हैं।


कुछ कमियां भी नजर आ रही हैं। ई-रुपी डिजिटल सिस्टम से पहले जब सरकार द्वारा किसी योजना के तहत लाभार्थी को धनराशि दी जाती थी, तो उसका भुगतान सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में नकद राशि के रूप में किया जाता था।


उदाहरण के लिए सरकार द्वारा गैस सिलेंडर भरने के लिए निर्धारित राशि आपके खाते में भेजी गई। आप उस राशि का उपयोग गैस सिलेंडर भरने के साथ-साथ अन्य कार्यों में भी कर सकते हैं। लेकिन ई-रुपया एक ई-वाउचर है।


जो एस.एम.एस. लाभार्थी के मोबाइल फोन पर। और एक क्यूआर कोड के रूप में प्राप्त किया जाएगा। सरकार द्वारा निर्दिष्ट कार्य के लिए लाभार्थी के फोन पर ई-वाउचर भेजा जाएगा। लाभार्थी उस ई-रुपये के वाउचर का उपयोग केवल निर्धारित कार्य के लिए कर सकता है न कि किसी अन्य कार्य के लिए।


उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि सरकार को गैस सिलेंडर भरने के लिए ई-वाउचर मिलता है, तो आप इसका उपयोग केवल गैस सिलेंडर भरने के लिए कर सकते हैं। ई-रुपी डिजिटल प्रीपेड वाउचर को लाभार्थी द्वारा नकद में परिवर्तित नहीं किया जा सकता है और किसी अन्य उद्देश्य के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता है।


ई -रूपी को कौन से बैंक जारी करते हैं

चूंकि बैंक ई-रुपी वाउचर जारी करेंगे। इसलिए, इसे विकसित करने वाले भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) ने ई-रुपी सुविधा जारी करने के लिए 11 बैंकों के साथ साझेदारी की है।

ये बैंक निम्नलिखित हैं –

  1. बैंक ऑफ बड़ौदा
  2. एक्सिस बैंक
  3. एच डी एफ सी बैंक
  4. केनरा बैंक
  5. आईसीआईसीआई बैंक
  6. कोटक महिंद्रा बैंक
  7. भारतीय स्टेट बैंक
  8. पंजाब नेशनल बैंक
  9. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया
  10. इंडसइंड बैंक
  11. इंडियन बैंक

इसके अलावा अन्य बैंकों के भी ई-रुपया स्वीकार करने की उम्मीद है।


ई-रूपी की सुविधा अभी कहां उपलब्ध है?

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम ने इस सुविधा के लिए वर्तमान में 1600 से अधिक अस्पतालों के साथ करार किया है। जहां ई-रुपये को भुनाया जा सकता है और भुगतान के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। जानकारों के मुताबिक ई-रुपये क्षेत्र के काफी व्यापक होने की पूरी उम्मीद है.


उम्मीद है कि यह प्रणाली अन्य भुगतान प्रणालियों की तुलना में अधिक विश्वसनीय साबित होगी।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad