AIDS Kya Hai? - AIDS या HIV Full Form In Hindi व अन्य उपयोगी जानकारी।

Ashok kumar
0

AIDS Kya Hai? – AIDS या HIV Full Form In Hindi व अन्य उपयोगी जानकारी।

क्या आप जानते हैं HIV और AIDS क्या होते हैं, अगर नहीं जानते हैं तो हम आपको इस पोस्ट के जरिए बताएंगे कि, एचआईवी का फुल फॉर्म हिंदी में और एड्स का फुल फॉर्म क्या है हिंदी में ये सारी जानकारी आपको इस पोस्ट के माध्यम से दी जाएगी। एचआईवी/एड्स एक बहुत ही घातक बीमारी है, जिसका अगर समय पर इलाज न किया जाए तो किसी की जान भी जा सकती है। एड्स एक संक्रामक रोग है जो ह्यूमेन इम्युनोडेफिशिएंसी (एचआईवी) वायरस के संक्रमण के कारण होता है।

जब एचआईवी वायरस शरीर में फैलता है, तो यह शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है। यह कई भयानक बीमारियों में से एक है। भारत में एचआईवी-एड्स का पहला मामला तीन दशक पहले आया था, लोगों में एचआईवी एड्स के बारे में जानकारी नहीं होने के कारण उनके मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। भारत में 2017 तक 2.1 मिलियन से अधिक एड्स रोगी पंजीकृत हैं।

बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि वे एचआईवी के संपर्क में आ चुके हैं या संक्रमित हो चुके हैं। यह एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है, एचआईवी। रक्त में मौजूद प्रतिरोधी पदार्थ लसीका कोशिकाओं पर हमला करता है।

AIDS Kya Hai? - AIDS या HIV Full Form In Hindi व अन्य उपयोगी जानकारी।

अगर आप भी ये हिंदी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं कि एड्स क्या है, तो इस पोस्ट में हम एड्स का फुल फॉर्म, एड्स का मतलब क्या होता है (एड्स फुल मीनिंग इन हिंदी) और एचआईवी फुल फॉर्म इन हिंदी आदि की पूरी जानकारी देंगे। पोस्ट को अंत तक पढ़ें।

Table of content (TOC)

एड्स क्या है?

एड्स ‘एक्वायर्ड इम्यूनोडेफिशिएंसी सिंड्रोम’ का संक्षिप्त नाम है। यह वायरस व्यक्ति के शरीर में मौजूद टी-सेल्स को नष्ट कर देता है। एड्स एचआईवी मानव इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस के कारण होता है, जो मानव की प्राकृतिक प्रतिरक्षा को कमजोर करता है। एचआईवी शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली पर हमला करता है।

बहुत से लोग समझते हैं कि एड्स खाने, पीने, उठने, किसी व्यक्ति के साथ बैठने से होता है, जो गलत है। ये सारी गलत बातें समाज में एड्स को लेकर फैलाई जा रही हैं। वास्तव में, एचआईवी को रोजमर्रा की सामाजिक बातचीत के माध्यम से प्रेषित किया जा सकता है। नहीं फैलता जैसे :- हाथ मिलाने से, जानवर के काटने से, ठंड से और ठंड से आदि।


एड्स का फुल फॉर्म हिंदी में

एड्स का पूर्ण रूप “Acquired Immunodeficiency Syndrome” है। एड्स या AIDS का हिंदी में पूर्ण रूप “एक्वायर्ड इम्यूनोडेफिशिएंसी सिंड्रोम” है।


एचआईवी क्या है?

HIV या एचआईवी का मतलब ह्यूमन इम्यूनोडेफिशिएंसी वायरस है जो एड्स का कारण बनता है। मानव शरीर की रक्षा प्रणाली को प्रतिरक्षा प्रणाली कहा जाता है। हमारे शरीर को कई वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने की शक्ति देता है। एचआईवी वायरस इस प्रतिरक्षा प्रणाली (श्वेत रक्त कणिका) की कोशिकाओं पर हमला करता है और कमजोर करता है। यदि इस वायरस को दवाओं के माध्यम से नियंत्रित नहीं किया जाता है, तो यह वायरस की लाखों प्रतियां बनाकर श्वेत रक्त कोशिकाओं को नष्ट कर देता है। जो अंततः एड्स का रूप धारण कर लेता है।


एचआईवी का फुल फॉर्म हिंदी में

HIV या एचआईवी का पूर्ण रूप “human immunodeficiency virus” है। जिसका हिंदी में पूरा नाम (HIV Full Form In Hindi) “ह्यूमन इम्यूनोडेफिशिएंसी वायरस” है।

तो एचआईवी मीनिंग इन हिंदी और एचआईवी का फुल फॉर्म इन हिंदी के बारे में जानकारी थी। आगे आपको बताया गया है कि एड्स कैसे फैलता है और इसकी रोकथाम के लिए क्या उपाय करने चाहिए।


एड्स meaning in Hindi लक्षण

अधिकांश लोगों के मन में यह सवाल होता है कि मुझे कैसे पता चलेगा कि मुझे एचआईवी है? तो आपको बता दें कि एचआईवी के संपर्क में आने के बाद आप दो से चार सप्ताह के भीतर शुरुआती सूक्ष्म लक्षण देख सकते हैं। ये लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

  • लगातार वजन कम होना
  • स्मृति हानि
  • लंबे समय तक दस्त
  • सूखी खांसी होना
  • लंबे समय तक बुखार
  • प्रतिरक्षा प्रणाली का कमजोर होना
  • रात में पसीना आना
  • दस्त होना
  • अवसाद होना

एड्स की पूरी जानकारी हिंदी में

कई बार ऐसा होता है कि संक्रमित व्यक्ति को पता ही नहीं चलता कि उसे एचआईवी हो गया है, क्योंकि इसके कोई लक्षण नहीं होते। जब वह व्यक्ति बीमार पड़ने लगता है, तो उसे गले में खराश, ग्रंथियों में सूजन, पेट में दर्द, उल्टी आदि जैसी समस्याएं होती हैं। तब उसे पता चलता है कि एड्स एक बीमारी है। क्योंकि ये एड्स के प्रमुख लक्षण हैं।

एचआईवी वायरस रक्त और शरीर के तरल पदार्थों से फैलता है। यह मुख्य रूप से असुरक्षित यौन संबंध, संक्रमित सीरिंज के माध्यम से, संक्रमित मां से उसके बच्चों में, संक्रमित रक्त के माध्यम से फैलता है।

अक्सर लोग पूछते हैं कि एड्स का इलाज क्या है, लेकिन अभी तक चिकित्सा विज्ञान में इसका कोई सटीक इलाज नहीं है, कुछ दवाएं बनाई जा चुकी हैं। जिससे एड्स के प्रभाव को कम किया जा सके और मरीज की जान बचाई जा सके।

एड्स से बचाव के कई तरीके हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • प्रयुक्त सुई या इंजेक्शन का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।
  • यदि आपको रक्त की आवश्यकता हो तो किसी अनजान व्यक्ति का रक्त न लें, केवल एचआईवी जांचा हुआ रक्त ही लें जो सुरक्षित हो।
  • पीड़ित साथी या व्यक्ति के साथ योनि संबंध स्थापित नहीं करना चाहिए।
  • यदि आप नाई के पास बाल कटवाने जाते हैं या शेविंग के लिए जाते हैं, तो नए ब्लेड का उपयोग करने के लिए कहें।
  • एड्स से बचने के लिए एक सामान्य व्यक्ति को एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के वीर्य या रक्त के संपर्क में आने से बचना चाहिए।

निष्कर्ष

इस पोस्ट में हमने आपको एड्स के बारे में पूरी जानकारी सरल भाषा में बताई है। आशा है आपको AIDS से जुड़े सभी सवालों का जवाब मिल गया होगा और आपको HIV Full Form Hindi क्या है और AIDS Ka Full Form In Hindi क्या है,

तो दोस्तों आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी! शेयरिंग बटन पोस्ट के नीचे इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। इसके अलावा अगर बीच में कोई परेशानी हो तो कमेंट बॉक्स में पूछने में संकोच न करें। आपकी सहायता कर हमें खुशी होगी। हम इससे जुड़े और भी पोस्ट लिखते रहेंगे। तो अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर हमारे ब्लॉग “Various info: education and tech” को बुकमार्क (Ctrl + D) करना न भूलें और अपने ईमेल में सभी पोस्ट प्राप्त करने के लिए हमें अभी सब्सक्राइब करें। 

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें। आप इसे व्हाट्सएप, फेसबुक या ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइटों पर साझा करके अधिक लोगों तक पहुंचने में हमारी सहायता कर सकते हैं। शुक्रिया!

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

If you liked the information of this article, then please share your experience by commenting. This is very helpful for us and other readers. Thank you

If you liked the information of this article, then please share your experience by commenting. This is very helpful for us and other readers. Thank you

Post a Comment (0)
Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !