रजनीगंधा की खेती कैसे करें | Tuberose Farming in Hindi

Ashok Nayak
0

रजनीगंधा की खेती कैसे करें | Tuberose Farming in Hindi

इस लेख में आप जानेगे कि रजनीगंधा की खेती, रजनीगंधा की खेती के लिए सहायक मिट्टी, रजनीगंधा की फसल के लिए उपयुक्त जलवायु और तापमान, रजनीगंधा की उन्नत किस्में, रजनीगंधा के खेत की तैयारी, रजनीगंधा के बीज की रोपाई की विधि और समय, रजनीगंधा के खेत में उर्वरक, रजनीगंधा के पौधे की सिंचाई, रजनीगंधा के पौधों पर खरपतवार नियंत्रण, क्षय रोग के पौधे के रोग और उपचार, रजनीगंधा के फूल तोड़ना, रजनीगंधा के फूल की कीमत, उत्पादन और लाभ आदि

Table of content (TOC)

रजनीगंधा की खेती

सुगंधित और आकर्षक फूल प्राप्त करने के लिए रजनीगंधा की खेती की जाती है। इसके फूल सफेद रंग के होते हैं, जो लंबे समय तक ताजे रहते हैं। इसके फूलों से गजरा बनाया जाता है, जिसे महिलाएं मेकअप के तौर पर इस्तेमाल करती हैं। इसके अलावा फूलों का उपयोग आयुर्वेदिक औषधि बनाने में भी किया जाता है। रजनीगंधा के फूलों से सुगंधित तेल भी निकाला जाता है, जिससे बाजारों में रजनीगंधा के फूल की मांग सबसे अधिक होती है। इसके तेल का इस्तेमाल परफ्यूम और परफ्यूम बनाने में किया जाता है।

रजनीगंधा की खेती कैसे करें | Tuberose Farming in Hindi

रजनीगंधा के तेल से बने परफ्यूम और परफ्यूम की कीमत बाजारों में काफी ज्यादा होती है। भारत में रजनीगंधा की खेती विशेष रूप से तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में की जाती है। किसान भाई भी रजनीगंधा की खेती से अधिक लाभ कमाते हैं। अगर आप भी रजनीगंधा की खेती करना चाहते हैं तो इस लेख में आपको रजनीगंधा की खेती कैसे करें इसकी जानकारी दी जा रही है।


रजनीगंधा की खेती के लिए सहायक मिट्टी

रजनीगंधा की खेती के लिए किसी विशेष प्रकार की भूमि की आवश्यकता नहीं होती है। इसे रेतीली दोमट और उचित जल निकासी वाली मिट्टी में आसानी से उगाया जा सकता है। अच्छी उपजाऊ भूमि में फूल बड़ी मात्रा में प्राप्त होते हैं। इसकी खेती हल्की अम्लीय और क्षारीय मिट्टी में भी की जा सकती है। इसके खेत में भूमि का पीएच मान 6.5 से 7.5 के बीच होना चाहिए।


रजनीगंधा की फसल के लिए उपयुक्त जलवायु और तापमान

समशीतोष्ण जलवायु में तपेदिक बड़ी मात्रा में उत्पन्न होता है। इसके पौधे गर्म और आर्द्र जलवायु में अधिक से अधिक ठीक से खिलते हैं। जिससे पैदावार भी अच्छी होती है। इसके फूलों को ठीक से खिलने के लिए धूप की जरूरत होती है इसलिए इसे छायादार जगह पर बिल्कुल भी न लगाएं।

रजनीगंधा के पौधे सामान्य तापमान पर अच्छी उपज देते हैं। इसके पौधों के लिए अधिकतम 35 और न्यूनतम 15 डिग्री पर्याप्त है।


रजनीगंधा की उन्नत किस्में

आज के समय में बाजारों में रजनीगंधा की कई किस्में मिल जाती हैं। कई किस्में भी हैं, जिन्हें संकरण के माध्यम से तैयार किया जाता है। इन सभी किस्मों को सिंगल और डबल कैटेगरी में बांटा गया है, जो इस प्रकार हैं:-

एकल ग्रेड उन्नत किस्म

  • सिल्वर लाइन :- इस सिंगल ग्रेड किस्म को एनबीआरआई और एनबीआर के माध्यम से विकसित किया गया है। इसके पौधों पर निकलने वाले फूलों में चांदी और सफेद रंग की धारियां और पत्ते सुनहरे रंग में पाए जाते हैं।
  • मेकअप :- यह रजनीगंधा की एक संकर एकल किस्म है, जिसे एनबीआरआई बैंगलोर द्वारा मैक्सिकन सिंगल और डबल क्रॉसब्रीडिंग द्वारा विकसित किया गया है। इसमें निकलने वाले फूलों का आकार बड़ा होता है और कली हल्के गुलाबी रंग की होती है। यह किस्म 20 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज देती है।
  • प्रज्वल :- रजनीगंधा की इस किस्म को बैंगलोर के एनबीआरआई ने मैक्सिकन सिंगल को हाइब्रिड करके तैयार किया है। इस किस्म के फूलों का वजन सामान्य से थोड़ा अधिक होता है। यह किस्म उच्च उपज देने के लिए जानी जाती है।

रजनीगंधा की डबल टियर किस्में

  • स्वर्ण रेखा :- यह एक डबल ग्रेड किस्म है, जिसका उपयोग ज्यादातर सजावट के लिए किया जाता है। इस किस्म को एनबीआरआई, लखनऊ की गामा किरणों द्वारा तैयार किया गया है। इसमें बाहर निकलने वाली पत्तियों के किनारों पर पीली रेखाएं होती हैं।
  • सुवासिनी :- रजनीगंधा की यह किस्म अन्य द्विस्तरीय किस्मों की तुलना में अधिक उपज देने के लिए जानी जाती है। इसे NBRI द्वारा बैंगलोर में मैक्सिकन सिंगल और डबल को हाइब्रिड करके तैयार किया गया है।
  • धूम तान :- इस किस्म की उपज सुवासिनी किस्म की तुलना में अधिक पाई जाती है। इसके पौधों में निकलने वाले फूल सफेद रंग के होते हैं, जिन पर हरी कली निकलती है। इस प्रकार के फूल का उपयोग विशेष रूप से कटे हुए फूलों के लिए किया जाता है।

रजनीगंधा के खेत की तैयारी

रजनीगंधा के खेत को तैयार करने के लिए शुरू में खेत की गहरी जुताई की जाती है। इसके बाद नष्ट हुई फसल के अवशेष को खेत से निकाल कर खेत की सफाई कर दी जाती है। जोताई के बाद गाय के गोबर की खाद को खेत में डालकर मिट्टी में अच्छी तरह मिला दें। इसके लिए खेत में कल्टीवेटर लगाकर खेत की जुताई कर दी जाती है। गाय के गोबर की मिट्टी में पानी मिला दिया गया है। कुछ दिनों तक पानी देने के बाद खेत की मिट्टी को एक बार फिर से जोतकर जोताई कर दी जाती है। इस भुरभुरी मिट्टी में पैड लगाकर खेत को समतल कर दिया जाता है।


रजनीगंधा के बीज की रोपाई की विधि और समय

चूंकि रजनीगंधा की फसल को बीज के रूप में बोया जाता है। इसके बीजों को उपज प्राप्त करने की विधि से बोया जाता है। यदि आप चाहते हैं कि उपज को पौधों से तेल मिले तो खेत में 20 सेमी की दूरी पर कतारें तैयार कर लें। इन पंक्तियों में 15 सेमी की दूरी पर रोपण करना चाहिए। इसके अलावा फूलों के रूप में उपज प्राप्त करने के लिए पौधों को समान पंक्तियों में 20 सेमी की दूरी पर लगाएं। एक एकड़ खेत में करीब एक लाख पौधे लगाए जा सकते हैं।

फरवरी के मध्य से मार्च के मध्य तक मैदानी क्षेत्रों में क्षय रोग के पौधों की रोपाई कर देनी चाहिए। इसके अलावा पर्वतीय क्षेत्रों में पौधों की रोपाई मई से जून के बीच की जाती है। इस दौरान पौधों को पर्याप्त मात्रा में धूप मिलती है, जिससे पौधों पर फूल भी बड़ी मात्रा में खिलते हैं।


रजनीगंधा के खेत में उर्वरक

रजनीगंधा की अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए खेत की मिट्टी में उर्वरक उचित मात्रा में देना चाहिए। इसके लिए जब खेत की पहली जुताई की जाती है तो उसमें 10 से 15 गाड़ियाँ पुरानी गोबर की खाद के साथ कम्पोस्ट खाद भी डाली जाती है। इसके अलावा अंतिम जुताई के समय एनपीके 1:2:1 प्रति हेक्टेयर का छिड़काव करें।

जब खेत में लगाया गया बीज पूरी तरह से अंकुरित हो जाए तो 50 किलो यूरिया प्रति हेक्टेयर खेत में छिड़कें, और पौधों पर फूल आने के दौरान पौधों पर पोटेशियम साइट्रेट, ऑर्थोफोस्फोरिक एसिड और यूरिया के मिश्रण का छिड़काव करें। इससे पौधों पर फूल अधिक मात्रा में आते हैं।


रजनीगंधा के पौधे की सिंचाई

रजनीगंधा के पौधों को पर्याप्त मात्रा में पानी दें। इसलिए इसकी पहली सिंचाई बीज बोने के तुरंत बाद करें और बीज के अंकुरण तक खेत में नमी बनाए रखनी चाहिए। खेत में नमी बनाए रखने के लिए हल्की सिंचाई करनी पड़ती है। जब पौधे अंकुरित हो जाते हैं, तो अधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती है। इसके पौधों पर फूल आने तक 7 से 10 सिंचाई करनी होती है। बारिश के मौसम में जरूरत पड़ने पर ही पौधों को पानी दें।


रजनीगंधा के पौधों पर खरपतवार नियंत्रण

रजनीगंधा की फसल में खरपतवार नियंत्रण पर विशेष ध्यान दें। क्योंकि खरपतवार पौधों को अधिक नुकसान पहुंचाते हैं। इसके लिए निराई करके खेत से खरपतवार हटा दें। जब भी खरपतवार नियंत्रण के लिए निराई-गुड़ाई की जाए तो उसके बाद पौधों पर मिट्टी अवश्य डालें। रजनीगंधा की फसल के लिए केवल दो 2 से 3 गुड़ाई की आवश्यकता होती है। इसकी पहली निराई बीज बोने के एक महीने बाद करें और बाद में 15 दिनों के अंतराल पर निराई करें। रासायनिक विधि से खरपतवारों को रोकने के लिए खेत में पौधे रोपने से पहले उचित मात्रा में एट्राजीन या ड्यूरान का छिड़काव करें।


क्षय रोग के पौधे के रोग और उपचार

रोगरोग का प्रकाररोग प्रतिरक्षण
स्टेम रोटस्क्लेरोसियम रोल डाउनी फफूंदी रोगपौधों की जड़ों पर मैलाथियान या रोगर का छिड़काव करें।
ग्रास हॉपरकीट रोगपौधों पर उचित मात्रा में मैलाथियान का छिड़काव करें।
महू और थ्रिप्सकीट रोगपौधों पर मोनोक्रोटोफॉस का छिड़काव करें।
कली सड़ांधइरबीन स्पिसिडा कवक रोगपौधों पर स्ट्रेप्टोसाइक्लिन 500 पीपीएम की उचित मात्रा का छिड़काव करें।
निमेटोडकीट रोगपौधों की जड़ों पर कार्बोफुरन या थाइमेट का छिड़काव करें।
तंबाकू मोज़ेक वायरसविषाणु रोगपौधों पर फिप्रोनिल का छिड़काव करें।


रजनीगंधा के फूल तोड़ना

तपेदिक के पौधे बीज बोने के 4 महीने बाद फूलने लगते हैं। इसके बाद जब फूल पूरी तरह से फूल जाए तो उसे तोड़ लें। अगर आप कटे हुए फूलों के लिए फूल तोड़ना चाहते हैं, तो जब एक डंठल पर दो से तीन फूल दिखाई दें, तो उसे डंठल सहित तोड़ लें। फूल तोड़ने के बाद उन्हें सूती कपड़े से बांधकर छायादार स्थान पर रख दें।

5 सेमी की दूरी लेकर इसके फूलों को डंडे से तोड़ें। इससे पौधे का बल्ब सुरक्षित रहता है, जिससे उसे उखाड़ कर दोबारा लगाया जा सकता है। कार्बेन्डाजिम को पानी में मिलाकर मिश्रण बना लें और इन बल्बों को आधे घंटे के लिए उसमें डूबा कर रख दें, इससे बल्ब सुरक्षित रहता है। इन फूलों को 17 दिनों की लंबी अवधि तक संरक्षित किया जा सकता है, जिससे इन फूलों को लंबी दूरी पर भी आसानी से भेजा जा सकता है।


रजनीगंधा के फूल की कीमत, उत्पादन और लाभ

एक हेक्टेयर भूमि से लगभग 80 क्विंटल रजनीगंधा के फूल का उत्पादन किया जा सकता है। रजनीगंधा के फूलों का बाजार भाव 20 रुपये प्रति किलो है। किसान भाई इसकी एक बार की फसल से डेढ़ से दो लाख तक कमा सकते हैं। इसके अलावा बल्ब को फिर से कम लागत में तीन गुना तक उगाया जा सकता है, इससे आप दूसरे साल में भी लगभग इतनी ही कमाई कर सकते हैं।


Final Words

तो दोस्तों आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी! शेयरिंग बटन पोस्ट के नीचे इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। इसके अलावा अगर बीच में कोई परेशानी हो तो कमेंट बॉक्स में पूछने में संकोच न करें। आपकी सहायता कर हमें खुशी होगी। हम इससे जुड़े और भी पोस्ट लिखते रहेंगे। तो अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर हमारे ब्लॉग “Various info: education and tech” को बुकमार्क (Ctrl + D) करना न भूलें और अपने ईमेल में सभी पोस्ट प्राप्त करने के लिए हमें अभी सब्सक्राइब करें। 

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें। आप इसे व्हाट्सएप, फेसबुक या ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइटों पर साझा करके अधिक लोगों तक पहुंचने में हमारी सहायता कर सकते हैं। शुक्रिया!

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

If you liked the information of this article, then please share your experience by commenting. This is very helpful for us and other readers. Thank you

If you liked the information of this article, then please share your experience by commenting. This is very helpful for us and other readers. Thank you

Post a Comment (0)
Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !