भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम, 1972 क्या है ? Indian Wildlife Protection Act

भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम, 1972 क्या है ? Indian Wildlife Protection Act

भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम, 1972 : 
यह भारत सरकार द्वारा वर्ष 1972 में वन्यजीवों के अवैध शिकार और मांस और त्वचा के व्यापार पर प्रतिबंध लगाने के उद्देश्य से पारित किया गया था। वर्ष 2003 में इसमें संशोधन किया गया और इसे भारतीय वन्यजीव संरक्षण (संशोधन) अधिनियम 2002 नाम दिया गया, जिसके तहत सजा और जुर्माने को और सख्त कर दिया गया है। 1972 से पहले, भारत में केवल पांच नामित राष्ट्रीय उद्यान (National Park) थे। अन्य सुधारों के अलावा, अधिनियम संरक्षित पौधों और जानवरों की प्रजातियों की अनुसूची स्थापित करता है और मोटे तौर पर इन प्रजातियों की कटाई और शिकार को प्रतिबंधित करता है।

  • यह अधिनियम जंगली जानवरों, पक्षियों और पौधों को संरक्षण प्रदान करता है।
  • इसमें कुल 6 अनुसूचियाँ है जो अलग-अलग तरह से वन्यजीवन को सुरक्षा प्रदान करता है।
  • अनुसूची-1 तथा अनुसूची-2 के द्वितीय भाग वन्यजीवन को पूर्ण सुरक्षा प्रदान करते है। इनके तहत अपराधों के लिए उच्चतम दंड निर्धारित है।
  • अनुसूची-3 और अनुसूची-4 भी संरक्षण प्रदान कर रहे हैं लेकिन इनमे दंड बहुत कम हैं।
  • अनुसूची-5 मे वह जानवरों शामिल है जिनका शिकार हो सकता है।
  • छठी अनुसूची में शामिल पौधों की खेती और रोपण पर रोक है।
  • सबसे ज्यादा जोर भारतीय स्टार कचवे पर दिया गया है इसे रखने पर 10000 रु जुर्माना ओर 10 साल की निश्चित गैर जमानती जेल है।

अपराध और दण्ड विधान - Crime and punishment

उन अपराधों के लिए सजा जिनमें जंगली जानवर (या उनके शरीर के अंग) - इस अधिनियम की सूची I या सूची II के भाग II में शामिल हैं - उनका शिकार करना, या किसी अभयारण्य या राष्ट्रीय उद्यान की सीमा को बदलने के लिए, और राशि  जुर्माने की राशि बढ़ा दी गई है। अब न्यूनतम कारावास 3 वर्ष है जिसे 7 वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है और न्यूनतम जुर्माना 10,000/- रुपये है। दूसरी बार ऐसा अपराध कम से कम 3 साल के कारावास से, जो 7 साल तक हो सकता है और न्यूनतम 25,000/- रुपये के जुर्माने से दंडनीय है।

तो दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी यह पोस्ट ! इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है। इसके अलावे अगर बीच में कोई समस्या आती है तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें। अगर आप चाहें तो अपना सवाल हमारे ईमेल Personal Contact Form को भर कर भी भेज सकते हैं। हमें आपकी सहायता करके ख़ुशी होगी । इससे सम्बंधित और ढेर सारे पोस्ट हम आगे लिखते रहेगें । इसलिए हमारे ब्लॉग “Hindi Variousinfo” को अपने मोबाइल या कंप्यूटर में Bookmark (Ctrl + D) करना न भूलें तथा सभी पोस्ट अपने Email में पाने के लिए हमें अभी Subscribe करें। अगर ये पोस्ट आपको अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। आप इसे whatsapp , Facebook या Twitter जैसे सोशल नेट्वर्किंग साइट्स पर शेयर करके इसे और लोगों तक पहुचाने में हमारी मदद करें। धन्यवाद !




Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad




Below Post Ad