Saubhagya Yojana -Pradhan Mantri Sahaj Bijli Har Ghar Yojana - Hindi Various info

Saubhagya Yojana | Pradhan Mantri Sahaj Bijli Har Ghar Yojana Kya h | प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना के बारे में| Saubhagya Scheme full details| PM Sahaj Bijli Har Ghar Yojana | PMSBHGY full form (Read in english)

Saubhagya Yojana (Pradhan Mantri Sahaj Bijli Har Ghar Yojana) –  व्यक्ति के सामाजिक-आर्थिक विकास में बिजली के महत्व को देखते हुए भारत सरकार ने देश के सभी घरों में बिजली पहुंचाने के लिए सौभाग्य योजना यानी प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना शुरू की है। सौभाग्य योजना 25 सितंबर 2017 को प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई थी। प्रधान मंत्री सहज बिजली हर घर योजना को लागू करते हुए, प्रधान मंत्री ने दिसंबर 2018 तक विद्युतीकरण प्रक्रिया को पूरा करने का लक्ष्य रखा था।

सौभाग्य योजना में सामाजिक-आर्थिक एवं जाति आधारित जनगणना के अन्तर्गत आने वाले परिवारों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन प्रदान करने की सुविधा प्रदान की गई है तथा अन्य परिवारों को विद्युत कनेक्शन के लिए शुल्क के रूप में ₹500 देने होंगे। सौभाग्य योजना के बारे में विस्तृत जानकारी देने के लिए भारत सरकार द्वारा 16 नवंबर 2016 को आधिकारिक वेब पोर्टल शुरू किया गया था।

इस योजना के तहत भारत सरकार द्वारा कुल परियोजना व्यय 16320 करोड़ रुपये है जबकि भारत सरकार सकल बजटीय सहायता के रूप में 12320 करोड़ रुपये खर्च करेगी। सौभाग्य योजना के तहत दिए जाने वाले कनेक्शन में पांच एलईडी लाइट, एक एसी पंखा और एक एसी पावर प्लग की सुविधा दी जाएगी, जिसकी मरम्मत और रखरखाव भारत सरकार द्वारा अगले 5 साल तक किया जाएगा।

Saubhagya Yojana | Pradhan Mantri Sahaj Bijli Har Ghar Yojana Kya h | प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना के बारे में| Saubhagya Scheme full details| PM Sahaj Bijli Har Ghar Yojana | PMSBHGY full form
Table of contents (toc)

Key Highlights of Pradhan Mantri Sahaj Bijli Har Ghar Yojana

योजना का नामप्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना
योजना की शुरुआत25 सितंबर 2017
योजना का प्रकार केंद्र सरकार की योजना
योजना  किसके द्वारा शुरू की गईप्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा दीनदयाल उपाध्याय की स्मृति दिवस पर।
योजना के लिए मुख्य व्यक्तितत्कालीन ऊर्जा राज्यमंत्री श्री आर के सिंह
योग्य व्यक्तिसामाजिक, आर्थिक एवं जाति आधारित जनगणना 2011 के अंतर्गत आने वाले गरीब परिवार ( मुफ्त कनेक्शन)  तथा अन्य सभी परिवारों को ₹500 शुल्क के साथ कनेक्शन
संबंधित मंत्रालय ऊर्जा मंत्रालय भारत सरकार
योजना की अवधिवित्त वर्ष2017-18  से 2018-19
योजना का उद्देश्यगरीब परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन उपलब्ध करवाते हुए पूरे देश में विद्युतीकरण करना।
योजना से संबंधित पोर्टलसौभाग्य पोर्टल
आधिकारिक वेबसाइटयहां क्लिक करें
टि्वटर अकाउंटयहां क्लिक करें
फेसबुक अकाउंटयहां क्लिक करें

प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना के तहत भारत सरकार द्वारा जून 2019 तक देश के लगभग 91 प्रतिशत ग्रामीण घरों में बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित की गई है। सौभाग्य योजना के तहत अक्टूबर 2018 तक बिहार सरकार ने बिहार में शत-प्रतिशत विद्युतीकरण का लक्ष्य पूरा कर लिया था। सौभाग्य योजना के तहत वर्तमान में भारत सरकार ने शत-प्रतिशत विद्युतीकरण का लक्ष्य हासिल कर लिया है।

Saubhagya Scheme शौभाग्य योजना

सौभाग्य योजना 2017 में बिजली मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा शुरू की गई थी। सौभाग्य योजना का लक्ष्य ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबी रेखा से नीचे और गरीबी रेखा से ऊपर जीवन यापन करने वाले हर घर और शहरी क्षेत्रों में गरीब परिवारों तक बिजली कनेक्शन तक पहुंच सुनिश्चित करना था। सौभाग्य योजना का मुख्य लक्ष्य देश के हर घर में बिजली की सुविधा उपलब्ध कराना है।

सौभाग्य योजना की शुरुआत के समय, देश में लगभग 4 करोड़ परिवार ऐसे थे, जिनके पास अभी तक बिजली कनेक्शन नहीं था। सौभाग्य योजना के तहत चिन्हित इन चार करोड़ परिवारों को दिसंबर 2018 तक बिजली कनेक्शन की सुविधा प्रदान की जानी थी। ग्रामीण विद्युतीकरण निगम को सौभाग्य योजना के क्रियान्वयन के लिए नोडल एजेंसी के रूप में नामित किया गया था।

सौभाग्य योजना को गति देने के लिए, भारत सरकार के स्पष्ट निर्देश थे, कि डिस्कॉम गांवों/मोहल्लों में शिविर आयोजित करेंगे ताकि घरों में बिजली कनेक्शन जारी करने के साथ-साथ आवेदन पत्र भरने में सुविधा हो सके। आवेदन प्रक्रिया को तेज करने के लिए बिजली प्रदाता कंपनियों द्वारा डिजिटल माध्यमों का उपयोग किया जाएगा।

योजना के तहत बिजली कनेक्शन जारी करते समय उपभोक्ताओं का नाम, पता और पहचान दस्तावेज (आधार नंबर / मोबाइल नंबर / बैंक खाता / ड्राइविंग लाइसेंस / वोटर आईडी कार्ड) आदि का विवरण बिजली प्रदाता कंपनी द्वारा ही एकत्र किया जाएगा। 

Saubhagya Yojana Portal 

बिजली मंत्रालय, भारत सरकार ने प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना के कार्यान्वयन के लिए 16 नवंबर 2017 को सौभाग्य योजना पोर्टल लॉन्च किया था। इस पोर्टल की शुरुआत तत्कालीन राज्य मंत्री श्री आरके सिंह, विद्युत मंत्रालय और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा, भारत सरकार द्वारा की गई थी। सौभाग्य योजना पोर्टल राष्ट्रीय सूचना केंद्र द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया है।

इस पोर्टल को शुरू करने के पीछे भारत सरकार का मुख्य उद्देश्य सौभाग्य योजना के तहत की जाने वाली विद्युतीकरण प्रक्रिया की तेज गति से निगरानी करना था। पोर्टल के माध्यम से प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी के साथ-साथ देश भर में ग्रामवार घरेलू विद्युतीकरण की स्थिति को प्रस्तुत किया गया है।

Saubhagya Yojana का दायरा 

प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना ग्रामीण क्षेत्रों में सभी गैर-विद्युतीकृत घरों को बिजली कनेक्शन प्रदान करने के लिए थी। इस योजना के तहत, दूरदराज के और दुर्गम गांवों / बस्तियों में स्थित गैर-विद्युतीकृत घरों के लिए सौर फोटोवोल्टिक (एसपीवी) आधारित स्टैंड-अलोन प्रणाली प्रदान की गई है, जहां बिजली लाइन तक पहुंचना असंभव है या अत्यधिक लागत अनुमानित है। . ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले गरीब लोगों को मुफ्त कनेक्शन की सुविधा प्रदान की गई है जबकि अन्य को बिजली कनेक्शन शुल्क के रूप में 500 रुपये का भुगतान करना होगा।

सौभाग्य योजना के माध्यम से सरकार शहरी क्षेत्रों में रहने वाले सभी शेष आर्थिक रूप से गरीब गैर-विद्युतीकृत परिवारों को बिजली कनेक्शन देना चाहती है। शहरी क्षेत्रों में रहने वाले गैर-गरीब परिवारों को इस योजना का हिस्सा नहीं बनाया गया है।

Saubhagya Yojana पात्रता मानदंड 

प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना के तहत निम्नलिखित परिवारों को बिजली कनेक्शन के लिए शामिल किया गया है।

  • बिना छत वाले परिवार।
  • दीक्षा पर निराश्रित और आश्रित परिवार या व्यक्ति।
  • मैनुअल मेहतर परिवार।
  • कानूनी रूप से मुक्त बंद परिवार या व्यक्ति।
  • एक आदिम आदिवासी समूह से संबंधित परिवार।
  • कानूनी रूप से जारी बंधुआ मजदूर।

उपरोक्त सभी प्रकार के परिवार जिनके पास रहने के लिए मकान/झुग्गी बस्ती/आहटा है, उन्हें सौभाग्य योजना के तहत मुफ्त बिजली कनेक्शन प्रदान किया जाएगा।

सौभाग्य योजना के तहत नि:शुल्क बिजली कनेक्शन के तहत निम्नलिखित 7 मापदंडों के तहत आने वाले परिवारों को भी शामिल किया गया है।

  • जिन परिवारों में केवल एक कमरा है, घांस फूस की दीवार वाला घर और घांस फूस की छत।
  • एक परिवार जिसमें 16 से 59 वर्ष की आयु के बीच कोई वयस्क सदस्य नहीं है।
  • एक महिला मुखिया का परिवार जिसमें 16 से 59 वर्ष की आयु के बीच कोई वयस्क पुरुष सदस्य नहीं है।
  • विकलांग व्यक्ति का परिवार जिसमें कोई सक्षम वयस्क सदस्य नहीं है।
  • अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के परिवार।
  • ऐसे परिवार जिनमें 25 वर्ष से अधिक आयु के वयस्क शिक्षित नहीं हैं।
  • भूमिहीन परिवार जिनकी आय का बड़ा हिस्सा शारीरिक आकस्मिक श्रम से आता है।

नोट- उन परिवारों को भी सौभाग्य योजना के तहत शामिल किया गया है और जो उपरोक्त किसी भी श्रेणी में नहीं आते हैं और जिनके घर में अभी तक बिजली कनेक्शन नहीं है। लेकिन उपरोक्त घरों में बिजली कनेक्शन लेने के लिए शुल्क के रूप में ₹500 का भुगतान करना अनिवार्य है।

Saubhagya Yojana की विशेषताएं

    • सौभाग्य योजना के तहत सामाजिक, आर्थिक और जाति आधारित जनगणना 2011 के आंकड़ों के आधार पर लाभार्थी परिवारों की पहचान की गई है।
    • योजना के तहत दिए जाने वाले बिजली कनेक्शन नि:शुल्क दिए जाएंगे।
    • SECC 2011 के आंकड़ों के अलावा उन परिवारों को भी इस योजना के तहत शामिल किया गया है, जिन्हें अभी तक बिजली का कनेक्शन नहीं मिल पाया है. लेकिन इसके लिए उन्हें अतिरिक्त भुगतान करना होगा।
    • SECC 2011 के आंकड़ों में से परिवारों को बिजली कंपनी को शुल्क के रूप में ₹500 का भुगतान करना होगा।
    • बिजली प्रदाता कंपनी उपभोक्ताओं के बिजली बिलों में ₹500 की राशि 10 किश्तों में जोड़ेगी।
    • सौभाग्य योजना में गैर-विद्युतीकृत घरों में बिजली कनेक्शन के दौरान सिंगल पॉइंट वायरिंग सहित लाइन केबल, प्रीपेड/स्मार्ट मीटर, ऊर्जा मीटर जैसी सुविधाएं प्रदान करने का प्रावधान शामिल है।
    • एलईडी लैंप और सहायक उपकरण तकनीकी विशिष्टताओं और निर्माण मानकों के साथ प्रदान किए जाने चाहिए।
    • दूरदराज और दुर्गम क्षेत्रों में स्थित गैर-विद्युतीकृत घरों के संबंध में, अधिकतम 5 एलईडी लाइट, 1 डीसी पंखा, 1 डीसी पावर प्लग आदि के साथ 200 से 300 डब्ल्यूपी (बैटरी बैंक के साथ) के पावर पैक उपलब्ध कराने का प्रावधान है।
    • सौभाग्य योजना के तहत बिजली उपभोक्ताओं को उपरोक्त उपकरण उपलब्ध कराने के साथ-साथ 5 साल तक मरम्मत और रखरखाव की सुविधा प्रदान की जाएगी।
    • दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (डीडीयूजीजेवाई योजना) के तहत सभी निजी क्षेत्र की बिजली प्रदाता कंपनियां, राज्य बिजली विभाग और ग्रामीण बिजली सहकारी समितियां वित्तीय सहायता के लिए पात्र होंगी।
    • राज्य विद्युत बोर्ड, जिन्होंने इस योजना के प्रारंभ होने से पहले ही किसी अन्य योजना के तहत विद्युतीकरण परियोजनाएं शुरू कर दी थी, को भी इस योजना के तहत शामिल किया गया है।
    • कुछ पात्र संस्थान अभी भी डीडीयूजीजेवाई योजना के तहत पहले से स्वीकृत बीपीएल परिवारों को मुफ्त कनेक्शन प्रदान करने की सुविधा प्रदान कर रहे हैं।
    • यदि डीडीयूजीजेवाई योजना के तहत ऐसी इकाइयां परियोजना क्षेत्र में पर्याप्त संख्या में बीपीएल परिवारों को खोजने में सक्षम नहीं हैं, तो ऐसे परिवारों को दोहराव की किसी भी संभावना से बचने के लिए सौभाग्य योजना के तहत सेवा कनेक्शन लागत के वित्तपोषण के लिए विचार नहीं किया जाएगा।
    • सौभाग्य योजना के तहत, बिजली प्रदाता कंपनियां (DISCOMS) उपभोक्ताओं का नाम, पता और पहचान पत्र (आधार संख्या / मोबाइल नंबर / बैंक / ड्राइविंग लाइसेंस / मतदाता पहचान पत्र) आदि, जो भी उपलब्ध हो, का विवरण एकत्र करेंगी।
    • बिजली कनेक्शन लेने के लिए उपभोक्ता को कोई विशेष दस्तावेज ले जाने की जरूरत नहीं है।
    • ऐसे परिवार जिनका कनेक्शन पहले ही डिफॉल्टर के रूप में काटा जा चुका है, उन्हें सौभाग्य योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा।
    • बिजली प्रदाता कंपनी पुणे कनेक्शन के लिए विचार कर सकती है यदि ऐसा व्यक्ति पुराने बिलों का भुगतान करता है।
    • प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना के तहत भारत सरकार द्वारा कुल परियोजना व्यय 16320 करोड़ रुपये है, जबकि भारत सरकार सकल बजटीय सहायता के रूप में 12320 करोड़ रुपये खर्च करेगी।
    • इस योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों पर 14025 करोड़ रुपये और शहरी क्षेत्रों पर 2295 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं।
    • सौभाग्य योजना में वित्त पोषण के लिए राज्यों को दो मुख्य श्रेणियों में बांटा गया है। सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर समेत पूर्वोत्तर के सभी राज्यों को विशेष श्रेणी में शामिल किया गया है। अंडमान और निकोबार दीप समूह और लक्षद्वीप को भी विशेष श्रेणी में शामिल किया गया है।
    • सौभाग्य योजना के अंतर्गत भारत सरकार द्वारा योजना व्यय का 85 प्रतिशत विशेष राज्यों को तथा योजना लागत का 60 प्रतिशत अन्य राज्यों को प्रदान किया जाएगा।
    • गैर-गरीब शहरी परिवारों को छोड़कर इस योजना के तहत लगभग तीन करोड़ गरीब परिवारों को कवर किया गया है।
    • विद्युत मंत्रालय के सचिव की अध्यक्षता में दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के लिए गठित निगरानी समिति सौभाग्य योजना के क्रियान्वयन के लिए संचालनात्मक दिशा-निर्देश जारी करेगी। यह कमेटी पूरी योजना पर नजर रखेगी।
    • सौभाग्य योजना के क्रियान्वयन के लिए ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड को नोडल एजेंसी के रूप में नियुक्त किया गया है।
    • इस योजना के तहत दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत अपनाई गई निगरानी प्रणाली और दिशा के संस्थागत तंत्र का पालन किया जाएगा।
    • सौभाग्य योजनान्तर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम पंचायत/सार्वजनिक संस्थाओं को आवेदन पत्र, दस्तावेजीकरण एवं बिल वितरण के कार्य में भागीदारी दी गयी है।
    • इस योजना के तहत क्षेत्रों में स्थित घरों में बिजली आपूर्ति के लिए सौर फोटोवोल्टिक (एसपीवी) आधारित स्टैंड-अलोन प्रणाली पर प्रति परिवार ₹ 50000 खर्च किए गए हैं।

    प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना की स्थिति कैसे देखे?

    भारत सरकार ने प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना यानी सौभाग्य योजना की निगरानी के लिए सौभाग्य पोर्टल शुरू किया था। इस पोर्टल के माध्यम से कोई भी नागरिक देश के किसी भी हिस्से में विद्युतीकरण की जानकारी ऑनलाइन प्राप्त कर सकता है। यदि कोई व्यक्ति सौभाग्य योजना के तहत देश के किसी विशेष क्षेत्र के विद्युतीकरण की जानकारी प्राप्त करना चाहता है तो नीचे दिए गए चरणों का पालन करें।

    • सबसे पहले प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
    • होम पेज पर नेविगेशन मेनू के ऊपर हेडर में, राज्य की ड्रॉप डाउन सूची से अपना राज्य चुनें।
    • जैसे ही आप अपने राज्य का चयन करते हैं, आपके सिस्टम की स्क्रीन पर चयनित राज्य की विद्युतीकरण जानकारी प्रदर्शित होगी। जिले की ड्रॉप डाउन सूची से अपने जिले का चयन करें।
    • जैसे ही आप अपने जिले का चयन करते हैं, आपके सिस्टम की स्क्रीन पर चयनित जिले के विद्युतीकरण की जानकारी प्रदर्शित होगी। गांव की ड्रॉप डाउन सूची से अपने गांव का चयन करें।
    • इसके बाद Type of Area & Discom चुनें। जैसे ही आप अपने गांव का चयन करते हैं, आपके सिस्टम की स्क्रीन पर चयनित गांव की विद्युतीकरण जानकारी प्रदर्शित होगी।
    • सौभाग्य डैशबोर्ड पर प्रदर्शित मानचित्र के विशेष भाग पर क्लिक करके आप किसी विशेष स्थान के विद्युतीकरण की जांच भी कर सकते हैं।

      निष्कर्ष

      प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना को सौभाग्य योजना के नाम से भी जाना जाता है। इस योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आजादी के 70 साल बाद भी बिजली कनेक्शन से वंचित गरीब परिवारों को ध्यान में रखकर की थी। इस योजना के तहत लगभग 16000 करोड़ रुपये खर्च किए गए और 2019 तक छत्तीसगढ़ राज्य को छोड़कर देश के लगभग सभी राज्यों ने 100% विद्युतीकरण का लक्ष्य हासिल कर लिया था।

      तो दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी यह पोस्ट ! इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है। इसके अलावे अगर बीच में कोई समस्या आती है तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें। अगर आप चाहें तो अपना सवाल हमारे ईमेल Personal Contact Form को भर कर भी भेज सकते हैं। हमें आपकी सहायता करके ख़ुशी होगी । इससे सम्बंधित और ढेर सारे पोस्ट हम आगे लिखते रहेगें । इसलिए हमारे ब्लॉग “Hindi Variousinfo” को अपने मोबाइल या कंप्यूटर में Bookmark (Ctrl + D) करना न भूलें तथा सभी पोस्ट अपने Email में पाने के लिए हमें अभी Subscribe करें। अगर ये पोस्ट आपको अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। आप इसे whatsapp , Facebook या Twitter जैसे सोशल नेट्वर्किंग साइट्स पर शेयर करके इसे और लोगों तक पहुचाने में हमारी मदद करें। धन्यवाद !

      Post a Comment

      0 Comments
      * Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

      Top Post Ad




      Below Post Ad